DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनावी बयार के साथ प्रचार सामग्रियां भी उतरीं मैदान में

सूबे में चुनावी बयार बहने के साथ ही चुनावी प्रचार-प्रसार भी जोर पकड़ने लगा है। हालांकि इस बार पार्टियां हाईटेक चुनावी प्रचार का मन बना रही है। वहीं परंपरागत सामग्रियां भी चुनावी प्रचार के लिए कुछ कम नहीं है। इसका अलग ही आकर्षण है, जिसमें मतदाताओं को रिझाने के लिए काफी कुछ है।

पिछली बार के चुनाव प्रचार को याद करें तो उसमें बॉलीबुड की अभिनेत्रियों का सहारा लिया गया था। साथ ही हाईटेक प्रचार में बेबसाइट और मैनेजमेंट गुरु भी शामिल थे। वहीं इस बार पार्टियों के लिए झंडे और बैनर तो हैं ही। साथ ही पार्टी के लोगों वाले टी शर्ट, गले का पट्टा, कोर्ट पिन, कागज की टोपी, मोबाइल कवर, पेन कवर भी बाजार में उपलब्ध हैं। प्रचार के इस युग में महिला मतदाताओं का भी विशेष ध्यान दिया गया है। इन्हें रिझाने के लिए साड़ी, बिन्दी, हेयर बैंड के कई आकर्षक रूप हैं जिनमें विभिन्न राष्ट्रीय पार्टियों का लोगो आकर्षक तरीके से सजाये गयें हैं। 

कार्यकर्ताओं तो यहां तक कह रहे कि हाईटेक तरीकों की अपेक्षा परंपरागत तरीका ही उत्साह और उमंग बढ़ाता है। कोडरमा से प्रचार सामग्री खरीदने आये केंद्रीय सदस्य झामुमो, रवीन्द्र सांडिल का कहना है हाईटेक आज के जमाने की जरुरत है। लेकिन परंपरागत तरीका काफी सटीक है। यह लोगों की भावना से सीधे जुड़ता है और ऐसे सामग्रियों से ही चुनावी उत्साह आते हैं। एक अन्य सदस्य भी कहते हैं कि परपरांगत चुनावी सामग्रियां जन-जन तक पार्टी की पहचान बनाने में सफल होती है। यह बात हाईटेक प्रचार में नहीं हो पाता है। हरमू रोड में प्रचार सामग्री की दुकान लगाने वाले वैधनाथ गुप्ता की माने तो चुनावी प्रचार में हर बार कुछ न कुछ नया होता है।

इस बार प्रचार-प्रसार में महिलाओं के लिए खास रूप से साड़ी और बिन्दी का खास प्रयोग किया गया है। वैधनाथ के अनुसार, सभी राष्ट्रीय पार्टियों के साथ क्षेत्रीय पार्टी भी इन सामग्रियों का प्रयोग करती हैं। फिलहाल लोग आ रहे हैं और अपनी पसंद की चीजें खरीद रहे हैं, जो चुनावी तारीख नजदीक आने के साथ और तेज हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चुनावी बयार के साथ प्रचार सामग्रियां भी उतरीं मैदान में