DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नवगीतकार अमरनाथ श्रीवास्तव नहीं रहे

नवगीत परम्परा के प्रमुख हस्ताक्षर अमरनाथ श्रीवास्तव नहीं रहे। रविवार को अपराह्न् तीन बजे गोविन्दपुर स्थित अपने आवास पर उन्होंने अंतिम सांस ली। वह कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। 1937 में गाजीपुर जिले में जन्मे अमरनाथ श्रीवास्तव ने अनेक पुस्तकें लिखीं जिनमें ‘गेरु की लिपियाँ’, ‘दोपहर में गुलमोहर’, ‘आदमी को देखकर’ एवं ‘है बहुत मुमकिन’ प्रमुख रूप से शामिल हैं।

शब्दों के प्रयोग में हमेशा चौकन्ने मगर शालीन रहे अमरनाथ श्रीवास्तव का काव्य शिल्प एकदम से अलग किस्म का होता था। गीतों की शास्त्रीय भूमि में वह यथार्थ भावों के सुंदर बीज इस निपुणता के साथ बोते थे कि अर्थपूर्ण शब्दों की फसल लहलहा उठती थी।

लेखन और प्रकाशन के तमाम किन्तु परन्तु से अलग इस साहित्य मनीषी को उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान ने दो बार निराला सम्मान से नवाजा। वह अपने पीछे पत्नी, दो पुत्र एवं दो पुत्रियां छोड़ गए हैं। उनका अंतिम संस्कार सोमवार को रसूलाबाद घाट पर 11.30 बजे किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नवगीतकार अमरनाथ श्रीवास्तव नहीं रहे