DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर खुला गौला

मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने कहा कि गौला समेत राज्य की जितनी भी नदियां खनन के लिए बंद हैं, उन्हें खुलवाने के लिए राज्य सरकार लम्बे समय से प्रयास कर रही है। इस बारे में शिमला में हुए हिमालयी प्रदेशों के अधिवेशन के दौरान केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश से भी ठोस बातचीत हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि खनन कार्य के लिए गौला नदी जल्द खुल जाएगी।

मुख्यमंत्री निशंक ने यहां रविवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रांतीय अधिवेशन में भाग लेने से पूर्व मेडिकल कॉलेज मैदान में बने हेलीपैड पर पत्रकारों से बातचीत में यह बात कही। उन्होंने कहा कि गौला में खनन न होने के चलते क्षेत्र में हो रही दिक्कतों से वह वाकिफ हैं। इसी के चलते राज्य सरकार ने इसे जल्द से जल्द खनन को खुलवाने के लिए लीज खत्म होते ही नवीनीकरण के लिए प्रयास शुरू कर दिए थे।

मुख्यमंत्री ने बताया कि वह केंद्रीय पर्यावरण मंत्री रमेश के सामने पूरा मामला रख चुके हैं। मुख्यमंत्री ने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि नेपाल से लगी सीमाओं में वहां के लोगों की आवाजाही बढ़ रही है। इससे किसी तरह का खतरा पैदा न हो इसके लिए राष्ट्रीय पहचान पत्र बनाने की जरूरत बतायी गई है।

राज्य में प्रस्तावित भारतीय प्रबंधन संस्थान यानी आईआईएम खोलने के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र को इस बारे में सभी जानकारी उपलब्ध करा दी गई है, इसमें जो भी देरी हो रही है उसके लिए केंद्र जिम्मेदार है। ओखलकांडा में हुई सरपंच की हत्या के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि मामला गंभीर है। राजस्व पुलिस की जगह इसकी जांच सिविल पुलिस को दे दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर खुला गौला