DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुद्रास्फीति अक्टूबर में बढ़कर 1.34 प्रतिशत

मुद्रास्फीति अक्टूबर में बढ़कर 1.34 प्रतिशत

खाने की चीजें महंगी होने के कारण थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति अक्टूबर में बढ़कर 1.34 प्रतिशत हो गई जो इसके पिछले महीने 0.50 प्रतिशत के स्तर पर थी। यह आंकड़ा शनिवार को पेश नए मासिक सूचकांक में जाहिर किया गया।

उक्त महीने के दौरान गेहूं, चावल, मूंग दाल, चाय, मांस, अचार और मसाले उन जिंसों में शुमार रहे जिनकी कीमत इस महीने के दौरान बढ़ी। अक्टूबर के दौरान पिछले महीने के मुकाबले गेहूं दो प्रतिशत महंगा हुआ, जबकि चावल की कीमत तीन प्रतिशत और मूंग की दाल का दाम सात प्रतिशत बढ़ा।

मुख्य तौर पर फर्नेस आयल (तीन प्रतिशत) और बीटूमिन (एक प्रतिशत) की कीमत बढ़ने के कारण ईंधन और बिजली खंड में भी अक्टूबर के दौरान 0.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। इस दौरान हालांकि फल एवं सब्जियां 11 प्रतिशत और बाजरा तीन प्रतिशत सस्ता हुआ। हालांकि जेट इंधन की कीमत आठ प्रतिशत गिरी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुद्रास्फीति अक्टूबर में बढ़कर 1.34 प्रतिशत