DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर रूट की पहली ट्रेन में सवार होना शगल

इसे शौक कहा जाए या दीवानापन, खुद अनिल मारवाह परिभाषित नहीं कर पाते हैं। अनिल मारवाह उस शख्स का नाम है जो मेट्रो की हर रूट की पहली ट्रेन में सवार होने वाले अकेले शख्स हैं। दिल्ली के वसंत कुंज निवासी अनिल न डीएमआरसी से जुड़े हैं और न उन्हें इसका कोई फायदा मिलता है, लेकिन 49 साल के अनिल के इस शगल से मेट्रो मैन ई. श्रीधरन भी पूरी तरह वाकिफ हैं।


शुक्रवार को सुबह सवेरे नोएडा के सिटी सेंटर स्टेशन पर पहुंचने के बाद स्मार्ट कार्ड ले मेट्रो में सवार होने पहुंचे अनिल के चेहरे पर दिख रहा भाव अन्य सभी यात्रियों से अलग था। चेहरे पर खुशी खुद झलक जा रही थी। कुछ अलग तरह से खुश दिख रहे अनिल से जब इस संवाददाता ने बातचीत शुरू की तो उन्होंने दिल्ली मेट्रो की पहली सर्विस की तस्वीरें दिखाईं। उन्होंने शुरू से लेकर अब तक के हर रूट की सेवा का पहला स्मार्ट कार्ड भी दिखाया और हर रूट की ट्रेन पर अपनी उपस्थिति की तस्वीरें भी दिखाईं। विदेशों में मेट्रो की सर्विस देख चुके अनिल ने कहा कि दिल्ली में 2002 में मेट्रो सर्विस शुरू होने के एक-दो दिन पहले मैं इससे खुद को बहुत जुड़ा समझने लगा और फिर यह सफर शुरू हो गया।

एक ट्रेवल कंपनी के जीएम-सेल्स की जिम्मेदारी के बीच मेट्रो की पहली ट्रेन के लिए वक्त निकालने वाले अनिल कहते हैं कि अब मेट्रो में अनियंत्रित भीड़ और पॉकेटमारी की बढ़ती घटनाएं सोचने को मजबूर कर रही हैं। अपने मेट्रो प्रेम के कारण श्रीधरन से अभिवादन पत्र पा चुके इस शख्स का मानना है कि मेट्रो के कारण लोग दिल्ली में रहना ज्यादा पसंद करने लगे हैं और इससे भीड़ अनियंत्रित हो रही है। उन्होंने डीएमआरसी को दोनों मामलों में सुधार की सलाह दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हर रूट की पहली ट्रेन में सवार होना शगल