DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई में हवाला एजेंटों से पूछताछ

सत्ता के गलियारे में पहुंच रखनेवाले देवेंद्र मुखिया ने सोमवार को आयकर विभाग के समक्ष समर्पण कर दिया। कोड़ा कांड के आरोपी मुखिया को छह नवंबर को हाजिर होने का सम्मन जारी किया गया था। वह तीन दिन बाद आये। आयकर विभाग ने मुखिया से उन पहलुओं पर पूछताछ की, जिससे कोड़ा और विनोद के व्यावसायिक संबंध उजागर हो सकें। उधर, मुंबई के तीन हवाला एजेंटों से आयकर और प्रवर्तन के अफसर भी यही सच उगलवाने की कोशिश में लगे रहे ।

मुखिया ने बड़ी बेबाकी से अपने को निर्दोष और बीमार बताते हुए कहा कि कोड़ा से उनकी सिर्फ तीन बार मुलाकात हुई। इलाज के लिए आर्थिक सहायता के सिलसिले में भीम सिंह के माध्यम से वे कोड़ा से मिले। सहायता तो नहीं मिली, लेकिन भीम सिंह, बसंत भट्टाचार्य और अरुण श्रीवास्तव से जान पहचान हो गई।
मुखिया से पोर्ट ब्लेयर वाले स्वर्गनुमा होटल के बारे में भी पूछताछ की गई। मुखिया का कहना है कि बसंत भट्टाचार्य ने उन्हें पानी जहाज का टिकट देकर पोर्ट ब्लेयर चलने को कहा था, लेकिन वह नहीं गए। बाद में आयकर विभाग ने मुखिया, भीम, बसंत और अरुण को आमने-सामने कर पूछताछ की, ताकि एक दूसरे पर लगाये जा रहे आरोपों की पुष्टि हो सके और सच्चाई सामने आए।

मनोज-अरविंद ने दीं कई जानकारियां-
आयकर अफसरों की एक टीम ने सोमवार को मुंबई में हवाला एजेंटों से पूछताछ शुरू की। मनोज पुनमिया और अरविंद व्यास ने हवाला कारोबार के संबंध में इन्हें कई जानकारियां दीं। हवाला एजेंटों से पूछताछ के लिए आयकर निदेशक उज्जवल चौधरी, अपर आयुक्त एमके मिश्र और सहायक निदेशक सुमन कुमार मुंबई गए हैं। छापामारी में जब्त कागजात दिखाकर इन्होंने हवाला एजेंटों से जानना चाहा कि हवाला के माध्यम से अरबों रुपए किन-किन देशों में भेजे गए हैं। कोड़ा ग्रुप का कौन व्यक्ति उनके संपर्क में रहता था। अब तक कितनी राशि विदेश भेजी गई है। इसके एवज में उन्हें कितना कमीशन मिला। महेंद्र पटोरिया को भी सम्मन भेजा गया था, लेकिन वह आयकर की टीम के समक्ष उपस्थित नहीं हुए।

मुंबई में ईडी-डीआरआई की मदद-
आयकर विभाग ने अब अपना ध्यान मुंबई पर केंद्रित कर दिया है। वहां प्रवर्तन निदेशालय और डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस की मदद से कोड़ा कांड के अभियुक्तों तक पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है। गहन पूछताछ भी की जा रही है। डीआरआइ को आयत-निर्यात में हुई गड़बड़ी को पकड़ने में दक्षता हासिल है। मुंबई में निदेशक उज्जवल चौधरी और झारखंड में अपर निदेशक अजीत कुमार श्रीवास्तव कमान संभाल रहे हैं।

हेलीकॉप्टर उड़ान का विवरण मंगाया-
आयकर विभाग एक साथ कई पहलुओं की जांच कर रहा है। अब विभाग ने कोड़ा के मुख्यमंत्री पद के कार्यकाल में उनके हेलीकॉप्टर उड़ानों का विवरण मंगाया है। इससे पता लगाया जा रहा है कि कोड़ा और विनोद ने एक साथ हेलीकॉप्टर पर यात्रा की है या नहीं। अब तक मिली जानकारी के अनुसार 18 जनवरी 2006 को कोड़ा और विनोद हेलीकॉप्टर से दुमका गए थे। 27 जुलाई 2006 को कोड़ा और सुनील नामक व्यक्ति साहिबगंज और देवघर के दौरे पर था।

एक माह में 62 करोड़ नकदी जमा कराई-
कोड़ा ग्रुप के सदस्यों ने मुंबई के यूनियन बैंक के झावेरी ब्रांच में एक माह में ही 62 करोड़ रुपए की नकदी जमा कराई थी। इसके पुख्ता सबूत मिलने के बाद आयकर विभाग रांची की टीम ने सोमवार को मुंबई में बैंक के मैनेजर से पूछताछ शुरू की। उन्होंने बताया कि मार्च 2009 में अलग-अलग तिथि को उक्त राशि जमा कराई गई। अब आयकर जानना चाह रहा है कि यह रकम ग्रुप के लोगों के पास आखिर आई कहां से।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुंबई में हवाला एजेंटों से पूछताछ