DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'अस्पताल की लापरवाही ने ली नवजात की जान'

उत्तर प्रदेश में सीतापुर के जिला महिला अस्पताल की कथित लापरवाही एक नवजात शिशु की मौत का सबब बन गई। घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं।

जिला महिला अस्पताल में रसूलपुर गांव निवासी गीता मिश्रा ने बुधवार को एक लड़के को जन्म दिया। प्रसव के बाद गीता को बेड नंबर-2 पर भेज दिया गया। कुछ देर बाद अस्पताल प्रशासन द्वारा मीरा तिवारी नाम की एक अन्य प्रसूता को बच्चों सहित उसी बेड पर लिटा दिया गया।

गीता ने कहा, ''बेड पर चारों के लेटने के बाद उसमें तनिक भी जगह नहीं बची। मीरा अपने बच्चों को लेकर विपरीत दिशा में मुंह करके सो रही थीं। देर रात उन्होंने करवट ली और उनका पैर मेरे नवजात शिशु को लगा और वह नीचे गिर गया। शिशु नीचे गिरते ही जोर-जोर से रोने लगा।''

उन्होंने कहा कि वह मदद के लिए चिल्लाती रहीं लेकिन अस्पताल का कोई कर्मचारी उनके निकट नहीं आया। गिरने के बाद बच्चों को सांस लेने में तकलीफ के कारण कुछ ही देर में उसकी मौत हो गई।

यह घटना बुधवार शाम की है, लेकिन अस्पताल प्रशासन को मामले को दबाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। मामला गुरुवार देर शाम प्रकाश में उस समय आया जब पीडिता के परिजनों ने स्थानीय पत्रकारों से संपर्क कर घटना के बारे में बताया।

घटना के बारे में पूछे जाने पर जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी वी.के.वर्मा ने शुक्रवार को बताया कि पीडिता की शिकायत के बाद घटना की जांच के लिए एक दल गठित किया गया है।

एक ही बेड पर दो प्रसूताओं को लिटा देने के सवाल पर वर्मा ने कहा कि हो सकता उस समय कोई खाली बेड न रहा हो, लेकिन दोनों प्रसूताओं को एक ही बेड देने के बाद अस्पताल कर्मचारियों को लगातार निगरानी करनी चाहिए थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'अस्पताल की लापरवाही ने ली नवजात की जान'