DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंदाज न लगाएं

निवेश ऐसी गतिविधि है जिसमें आप एक फ्रेमवर्क बनाकर अपने पैसे को सिक्योरिटी या परिसंपत्ति में लगाते हैं। निवेश में सामान्यत: सोच-समझ के साथ जोखिम उठाया जाता है और निवेश करने वाली कंपनी की संभावनाओं के बारे में पूरी जानकारी एकत्रित की जाती है ताकि आप बेहतर रिटर्न पा सकें। इसके लिए निवेश के दर्शन को समझने की जरूरत है। मतलब ये कि आप निवेश के बुनियादी सिद्धांतों को समझों।
बाजार में नए-नए निवेश करने वाले लोग अकसर अपने पैसे को ऐसी जगह निवेश कर जाते हैं जिसके बारे में उन्हें जानकारी नहीं होती। इसे निवेश नहीं कहा जाएगा। एक तरह से ये जुए की तरह है जिसमें आपकी किस्मत और वक्त का आपके साथ होना जरूरी है।
गौर करें
निवेश से पहले इन पर गौर करें-
ल्ल यूनिक स्थिति और जोखिम लेने की क्षमता।
ल्ल अपने आर्थिक लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आपको कितने रिटर्न की जरूरत है।
ल्ल आप निवेश से बाहर कब निकलना चाहते हैं यानी टाइमलाइन का निर्धारण जरूर करें।
ल्ल कितनी जल्दी आप निवेश को कैश में बदलना चाहते हैं यानी निवेश में आप कितनी तरलता दे सकने में सक्षम हैं।
ल्ल क्या आपको निवेश मुद्रास्फीति से लड़ने के लिए पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करता है।
ल्ल किस तरह के टैक्स की जिम्मेदारी से आप बचना चाहते हैं।
ल्ल आपको निवेश प्लान चुनने से पहले पूरी तरह इसका विश्लेषण करना होगा। साथ ही निवेश के दौरान उम्र के अनुरूप अलग-अलग मौकों पर जोखिम और आíथक जिम्मेदारियों और परिसंपत्तियों को ध्यान में रखना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अंदाज न लगाएं