DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गौला की खातिर हल्द्वानी रहा बंद


गौला में खनन शुरू न होने के विरोध में हल्द्वानी बंद का व्यापक असर रहा। गुरुवार को आहूत बंद के दौरान बाजार में सन्नाटा पसर गया। एक दिन की इस बाजार बंदी के चलते करोड़ों रुपये का कारोबार प्रभावित हुआ। भारी संख्या में पुलिस बल की मौजूदगी के कारण कहीं पर भी कोई अप्रिय घटना नहीं घटी। इसी मांग को लेकर शुक्रवार को लालकुआं का बाजार और स्टोन क्रशर व्यवसाय बंद रखने का आह्वान किय गया है।

गौला नदी में रेता, बजरी की खनन निकासी न होने से लाखों लोग प्रभावित हो रहे हैं। खनन शुरू करने मांग को लेकर खनन से जुड़े कारोबारी कई दफा सड़कों पर प्रदर्शन और राज्य सरकार से केंद्र सरकार तक गुहार लगा चुके हैं। लेकिन कोई हल न निकलने पर गौला मजदूर संघर्ष समिति ने गुरुवार को हल्द्वानी बंद का ऐलान किया। बंद को पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन, देवभूमि व्यापार मंडल, प्रांतीय उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल, ट्रांसपोर्टनगर एसोसिएशन, डंपर एसोसिएशन, सब्जी-फल एसोसिएशन, स्टोन क्रशर आदि अधिकांश व्यापारिक संगठनों ने पूरा समर्थन देते हुए अपने प्रतिष्ठान बंद रखे।

बंद के चलते मुख्य बाजारों में पूरे दिन सन्नाटा पसरा रहा। गली-मोहल्लों और रामपुर रोड, काठगोदाम, मुखानी क्षेत्र की अधिकांश दुकानें भी बंद रहीं। इक्का-दुक्का खुली दुकानों को मोटर साइकिल पर बंद का जायजा ले रहे व्यापारियों ने बंद करा दिया। चप्पे-चप्पे पर पुलिस फोर्स तैनात कर रखा था।

इस मौके पर एसएसपी मोहन सिंह बंग्याल, एसपी सिटी यशवंत सिंह, सीओ डॉ. सदानंद दाते, कोतवाल केएस असवाल, सिटी मजिस्ट्रेट श्रीष कुमार, एसडीएम दीपक रावत आदि लगातार शहर के विभिन्न भागों में स्थिति का जायजा लेते रहे। शुक्रवार को लालकुआं बाजार बंदी के आह्वान को देखते हुए पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने कानून एवं व्यवस्था संबंधी प्रबंधों पर विचार-विमर्श किया। किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने की रणनीति भी तैयार की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गौला की खातिर हल्द्वानी रहा बंद