DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिड-डे मील के खाने से तीन दर्जन बच्चे बीमार

अनुमंडल के नयागांव थाना क्षेत्र के उत्क्रमित मध्य विद्यालय हसनपुर में गुरुवार को मिड-डे मील के मध्याह्न का भोजन करने के बाद स्कूल के तीन दर्जन बच्चे बीमार पड़ गए। बीमार बच्चे गोपालपुर, हसनपुर और महमूदचक के हैं, जो वर्ग-एक से वर्ग-पांच के बताए जाते हैं। भोजन करने के आधे घंटे के बाद ही बच्चे उल्टी करने लगे और उन्हें चक्कर आने लगे। आनन-फानन में इसकी सूचना नयागांव थानाध्यक्ष राजगृह राम को दी गई।

थानाध्यक्ष ने पुलिस जीप से बच्चों को सोनपुर रेफरल अस्पताल पहुंचाया। इतनी संख्या में बच्चों को अस्पताल में आते ही अफरा-तफरी की स्थिति हो गई और मेला क्षेत्र में प्रतिनियुक्ति चिकित्सक डॉ. अमरेन्द्र प्रसाद सिंह को रेफरल अस्पताल में बुलाया गया, इसके बाद बीमार बच्चों की चिकित्सा शुरू हुई।

एसडीओ ने फूड इंस्पेक्टर को मिड-डे मील का सैंपल जब्त कर जांच करने का निर्देश दिया है। उन्होंने नयागांव थानाध्यक्ष राजगृह राम को मिड-डे मील सप्लाई करने वाली एजेंसी पर एफआईआर दर्ज करने को कहा है। बच्चों की जांच कर रहे डॉ. अमरेन्द्र प्रसाद सिंह ने बताया कि यह मामला वैक्टेरियल फूड प्वायजनिंग का नहीं बल्कि कैमिकल फूड प्वायजनिंग का है। केमिकल की डोज की मात्रा कम रहने के कारण ही बच्चे गंभीर रूप से बीमार नहीं पड़े अन्यथा स्थिति बिगड़ भी सकती थी। मिली खबर के अनुसार, दोपहर एक बजे बच्चों को खाना खिलाया जा रहा था।

एक डब्बे में रखी दाल के खाने के बाद यह बच्चे बीमार पड़े। यह भी जानकारी मिली है कि दाल में कपड़े में बंधी सल्फास की गोली पाई गई। उस गोली के कारण ही बच्चे बीमार पड़े और उन्हें उल्टी और सर चकराने की शिकायत शुरू हो गई। सबसे हैरानी की बात तो यह है कि इतने बच्चे अचानक बीमार पड़ गए, लेकिन स्कूल का कोई भी शिक्षक बच्चों को अस्पताल लेकर नहीं आया, जबकि उक्त विद्यालय में आठ शिक्षक बताए जाते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मिड-डे मील के खाने से तीन दर्जन बच्चे बीमार