DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईसीसी की नस्लवाद व भ्रष्टाचार विरोधी आचार संहिता

आईसीसी की नस्लवाद व भ्रष्टाचार विरोधी आचार संहिता

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने गुरुवार को नस्लवाद और भ्रष्टाचार विरोधी आचार संहिता लागू की जिसके तहत खेल भावना से खेल और बहु संस्कृतिवाद को बढा़वा मिल सकेगा।

आईसीसी ने एक बयान में कहा कि सभी पक्षों से वृहत स्तर पर बातचीत और हर पहलू की समीक्षा के बाद यह आचार संहिता लागू की गई है। आईसीसी के मुख्य कार्यकारी हारून लोर्गट ने कहा कि इससे स्पष्ट हो जाएगा कि खेल में किस तरह का बर्ताव बर्दाश्त किया जाएगा और कैसा नहीं। सिर्फ खिलाड़ी ही नहीं बल्कि खेल से जुड़े हर व्यक्ति पर यह लागू होगा।

लोर्गट ने कहा कि ये आचार संहिता व्यवहारिक और प्रयोग में आसान है। इसमें क्रिकेट में ईमानदारी से आचरण नहीं करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। हरभजन सिंह और एंड्रयू साइमंडस के बीच मंकीगेट प्रकरण के बाद से क्रिकेट में नस्लवाद गंभीर मुद्दा बना हुआ है। आईसीसी ने कहा है कि विभिन्न संस्कृतियों से जुड़े लोगों की भाषाएं अलग-अलग होने के कारण होने वाले नस्लीय विवादों से बचने के लिए यह आचार संहि  लागू की जा रही है।

बयान में कहा गया कि क्रिकेट से जुड़े विभिन्न संस्कृतियों के लोगों में गलतफहमी और भ्रांति भाषा की जानकारी नहीं होने या अनुवाद में गड़बड़ी से पैदा हो सकती है। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में दोनों पक्षों के राजी होने पर इस प्रक्रिया के तहत मसलों को सुलझाया जा सकता है। यदि विशेषज्ञ की मौजूदगी में मैदान पर इस मसले से नहीं निपटा जा सकता है तो अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की जाएगी जिसमें कड़े दंड का प्रावधान होगा। वहीं, भ्रष्टाचार निरोधक आचार संहिता से आईसीसी की भ्रष्टाचार निरोधक सुरक्षा ईकाई और मजबूत होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईसीसी की नस्लवाद व भ्रष्टाचार विरोधी आचार संहिता