DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साहसिक खेलों को स्वरोजगार से जोड़ें

हवाई पट्टी में चली तीन दिवसीय पैरासेलिंग प्रशिक्षण का क्षेत्र पंचायत प्रमुख ने प्रतिभागियों के बैच अलंकरण के साथ समापन किया। उन्होंने साहसिक खेलों को स्वरोजगार से जोड़ने की अपील की। प्रखंड में जिला साहसिक पर्यटन अधिकारी द्वारा तीन दिनों से पैरासेलिंग प्रशिक्षिण दिया जा रहा था। पुरोला, मोरी, बड़कोट, चिन्यालीसौड़ व भटवाड़ी के स्कूली बच्चों ने भाग लिया।

प्रशिक्षण के तीसरे दिन मुख्य अतिथि प्रमुख बलवीर बिष्ट ने प्रतिभागियों को बैच अलंकरण करते हुए कहा कि साहसिक खेलों की राज्य में आपार संभावनाएं है। उन्होंने पैरासेलिंग, पैराग्लाइडिंग, राफ्टिंग, रीवर क्रासिंग जैसे खेलों को मुख्य आजीविका से जोड़ने का सुझाव दिया। प्रमुख ने साहसिक पर्यटन विभाग के कार्यक्रमों की सराहना करते हुए समय-समय पर आयोजन की अपील की।

जिला साहसिक पर्यटन अधिकारी खुशहाल सिंह नेगी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए विभाग द्वारा संचालित जानकारियां दी। उन्होंने तीन दिनों तक चले प्रशिक्षण के बारे में प्रतिभागियों से खुलकर चर्चा की। इस मौके पर मनीष कौशिक, प्रमोद कुमार, अमित सैनी, अनिल कुमार, प्रकाश पंवार, यशवंत सिंह, अनक पाल,उत्तम नेगी, सुन्दर सिंह, दर्मियान सिंह, त्रिभुवन सिंह, राजेश रावत, नरेन्द्र सिंह समेत अन्य मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साहसिक खेलों को स्वरोजगार से जोड़ें