DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयकर-प्रवर्तन की निगरानी में हैं पूर्व सीएम

पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधु कोड़ा अब स्वस्थ हैं। अपोलो अस्पताल के चिकित्सकों की टीम ने रविवार की सुबह उनके स्वास्थ्य की जांच की और उन्हें घर जाने की इजाजत दे दी गई थी। डिस्चार्ज करने से पूर्व अस्पताल प्रबंधन ने आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय के अफसरों को सूचना दी गई थी।

दोनों विभागों के अधिकारी अपोलो पहुंचे और दोपहर 12 बजे कोड़ा को साथ लेकर निकले। पूर्व सीएम को कड़ी सुरक्षा के बीच दीनदयाल नगर स्थित उनके सरकारी आवास पर लाया गया। रास्ते में बातचीत करने पर कोड़ा ने सिर्फ इतना ही कहा- मैं निर्दोष हूं। आयकर के अफसरों ने विशेष बातचीत की इजाजत नहीं दी। कोड़ा पिछले छह दिनों से अस्पताल में इलाजरत थे।

गौरतलब है कि 31 अक्तूबर को कोड़ा सहित उनके ग्रुप के 76 ठिकानों पर छापामारी की गयी थी। आठ नवंबर की देर शाम आयकर विभाग के अफसरों ने कोड़ा से पुनः पूछताछ शुरू की। कोड़ा कांड के मास्टर माइंड विनोद सिन्हा और संजय चौधरी से व्यावसायिक लेनदेन के संबंध में ज्यादा पूछताछ की जा रही है। इधर प्रवर्तन निदेशालय ने सम्मन जारी कर कोड़ा को 13 नवंबर को दिल्ली तलब किया है। आयकर विभाग इससे पूर्व पूछताछ समाप्त करने की कोशिश में है। विभाग के पास इस बात के पुख्ता प्रमाण हैं कि कोड़ा के पद का लाभ उठाकर विनोद-संजय ने अरबों की अवैध संपत्ति हासिल की और विदेशों तक इसे निवेश किया।

प्रवर्तन निदेशालय के अफसर विनोद सिन्हा के भाई विकास सिन्हा को रिमांड पर लेकर दिल्ली चले गए। नौ  दिनों तक विकास से निदेशालय के मुख्यालय में पूछताछ होगी। प्रवर्तन के आवेदन पर विशेष न्यायाधीश पंकज कुमार की अदालत ने उसे 10 दिनों के रिमांड पर दिया है। विकास से आयकर विभाग के अधिकारियों ने रांची में लंबी पूछताछ की थी। बाद में उसे प्रवर्तन निदेशालय को सौंप दिया गया। 

हवाला कारोबार की गुत्थी सुलझाने आयकर विभाग की एक टीम मुंबई गयी है। आयकर निदेशक उज्जवल चौधरी दिल्ली के रास्ते मुंबई पहुंचे, जबकि रांची से अपर आयुक्त एमके मिश्र और सहायक निदेशक सुमन कुमार को रविवार को मुंबई भेजा गया। विभाग ने हवाला एजेंट मनोज पुनमिया, अरविंद व्यास और महेंद्र पटोरिया को मुंबई स्थित आयकर विभाग के दफ्तर में नौ नवंबर को हाजिर होने का सम्मन जारी किया था। तीनों से मुंबई में ही पूछताछ की जाएगी। आयकर विभाग का मानना है कि हवाला एजेंटों ने सही-सही जानकारी दी, तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आयेंगे।

आयकर विभाग ने कोड़ा ग्रुप के 70 नहीं, कुल 76 ठिकानों पर छापामारी की है। पहले दिन 70 स्थानों पर छापेमारी शुरू हुई थी। बाद में मुंबई, दिल्ली और कोलकाता के छह और ठिकानों को कवर किया गया। इनमें दिल्ली स्थित पावरटेक के रोहितास कृष्ण भी हैं। अब आयकर विभाग ने रोहितास को भी सम्मन जारी किया है।

कोड़ा कांड के मास्टर माइंड विनोद सिन्हा और संजय चौधरी को आयकर विभाग ने पुन: सम्मन जारी किया है। इन्हें 11 नवंबर को हर हाल में अपर निदेशक कार्यालय में उपस्थित होने का आदेश दिया गया है। इससे पूर्व दोनों को छह नवंबर को बुलाया गया था, लेकिन वे नहीं आए। अपर निदेशक अजीत कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि उन्हें एक और मौका दिया जा रहा है, इसके बाद भी नहीं आए, तो गिरफ्तारी वारंट जारी किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आयकर-प्रवर्तन की निगरानी में हैं पूर्व सीएम