DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खामोशी से गुजर गया 'फयान'

खामोशी से गुजर गया 'फयान'

चक्रवाती तूफान फयान बुधवार शाम मुंबई के बेहद निकट से गुजरकर पश्चिमी तटवर्ती क्षेत्रों से आगे बढ़ गया, लेकिन इससे महानगर को कोई नुकसान नहीं पहुंचा और प्रशासन ने राहत की सांस ली। इससे पहले प्रशासन ने अलर्ट जारी किए थे और स्कूल तथा दफ्तर बंद करा दिए थे।

बहरहाल, तूफान के चलते काफी बारिश हुई और 75 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। इससे पहले ये खबरें थीं कि अशांत समुद्र में 200 मछुआरे लापता हो गए हैं। मुंबई स्थित भारतीय मौसम विज्ञान विभाग में निदेशक सती देवी ने कहा कि चक्रवाती
तूफान अपराहन साढ़े तीन से साढ़े चार बजे के बीच अलीबाग और मुंबई के बीच से गुजरा और उत्तर-उत्तर पूर्व की ओर चला गया।

मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा कि चक्रवाती तूफान को लेकर जारी अलर्ट मुंबई और गुजरात से हटा लिया गया है। बहरहाल, प्रशासन सतर्क है। चक्रवात का नाम म्यामां ने रखा है। यह बर्मी शब्द फयान है जिसके मायने पेड़ से गिरने वाली चैरी से हैं।

मौसम विज्ञान ब्यूरो ने अगले 24 घंटे में महाराष्ट्र के मुंबई, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरि और सिंधुदुर्ग तथा मध्य प्रदेश और दक्षिणी गुजरात के जिलों में भारी बारिश होने की संभावना जताई है। मुंबई के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के प्रवक्ता ने कहा कि उड़ानों में दो घंटे का औसत विलंब रहा।

भारी बारिश के बीच स्कूल और कालेज के छात्र तथा सरकारी कर्मचारी अपने घर लौटे। यात्रियों की सुविधा के लिए अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की गई। मुंबई में पश्चिमी तथा मध्य मार्ग पर ट्रेन सेवाएं तय कार्यक्रम के मुताबिक चल रही हैं। वहीं, शहर के विभिन्न हिस्सों में सड़क यातायात प्रभावित हुआ।

पणजी से मिली रिपोर्ट में मांडवी फिशरीज कॉरपोरेशन के अध्यक्ष मेनिनो अल्फांसो के हवाले से कहा गया कि करीब 30 नौकाओं में सवार 200 लोग लापता हैं। इस बीच, गुजरात से अच्छी खबर यह है कि दमन के तट से कोई 40 समुद्री मील दूर 60 नौकाओं में फंसे 400 मछुआरे तट पर लौट आए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खामोशी से गुजर गया 'फयान'