DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन घंटे तक परिजनों ने शव नहीं उठने दिया

शहर के एक वीआईपी अपार्टमेंट सेक्टर-50 में काम करने वाली नाबालिग नौकरानी की बुधवार सुबह संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। पुलिस इसे आत्महत्या बता रही है। वहीं मृतका के परिजन हत्या की आशंका जता रहे हैं। इस मामले में पुलिस का कहना है कि पीएम के बाद ही पता लग पायेगा। इस मामले में परिजनों ने मालिक के खिलाफ तहरीर दी है जिस पर जांच के बाद मुकदमा दर्ज किया जाएगा।


प्राथमिक जांच के दौरान पुलिस को लड़की के गले पर निशान मिले हैं। सेक्टर-50 स्थित सिल्वर एस्टेट में हुई इस घटना के बाद पास में ही रहने वाले मृतका के परिजनों व आसपास के लोगों ने जमकर हंगामा किया और तीन घंटे तक लाश को उठने नहीं दिया। बाद में पुलिस ने किसी तरह लाश को जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसके बाद भी सड़क पर परिजन हंगामा करते रहे।


सेक्टर-50 स्थित सिल्वर एस्टेट के फ्लैट नंबर-606 में एक अखबार में काम करने वाले एस.एस. मेंहदीरत्ता अपनी पत्नी के साथ रहते हैं। इस फ्लैट में नीतू (17) पिछले चार वर्षो से काम करती है। बुधवार की सुबह जब वह काम करने के लिए आई उस समय मेंहदीरत्ता अपने ऑफिस चले गए थे। घर में उनकी पत्नी थी। थोड़ी देर बाद पत्नी मोहिनी बाहर से घर बंद कर सत्संग के लिए मंदिर चली गई। जब साढ़े 11 बजे वह घर पहुंच कर दरवाजा खोला तो स्टोर रूम में नीतू पंखे से लटकी मिली।


नीतू की शादी इसी महीने होने वाली थी। मूलत: हरदोई की रहने वाली नीतू के पिता कैलाश ने दो शादी की थी। इसके कारण वह हमेशा परेशान रहती थी। घटना के बाद नीतू के परिजनों ने जमकर हंगामा मचाया और तीन घंटे तक लाश को उठने नहीं दिया। नीतू की मां मीना ने अपनी बेटी की हत्या के लिए मेंहदीरत्ता को जिम्मेदार बता रही है। वहीं मेंहदीरत्ता का कहना है कि घर के अंदर नीतू ने पंखे से लटककर आत्महत्या की है। गले के निशान, पंखे पर दुपट्टे का बंधा होना इसके सबूत हैं। एसपी सिटी अशोक त्रिपाठी ने बताया कि लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद सब कुछ साफ हो जाएगा। उसके बाद रिपोर्ट दर्ज की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीन घंटे तक परिजनों ने शव नहीं उठने दिया