DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोनिका डागर मामले में पुलिस को मिली फटकार

दिल्ली हाईकोर्ट ने लवमैरिज कर घरवालों की नाराजगी का शिकार हुई गाजियाबाद की मोनिका डागर को बिना जांच पड़ताल के मृत मानने और अदालत के आदेश पर कोई जवाब न देने पर उत्तर प्रदेश पुलिस को जमकार फटकार लगाई है।


न्यायाधीश संजय किशन कौल ने गाजियाबाद के एसएसपी को इस बारे में विस्तृत रिपोर्ट के साथ तलब किया है। साथ ही दिल्ली पुलिस को लड़की के परिजनों की शिकायत पर उसे पकड़ने के लिए आयी गाजियाबाद पुलिस की टीम के सदस्यों का नाम भी बताने को कहा है। लड़की के पति गौरव की शिकायत पर हाईकोर्ट ने गाजियाबाद के संबद्ध थाने की एसीपी से बुधवार को जवाब तलब किया था। एसीपी की ओर से अदालत पंहुचे पुलिसकर्मी ने शहर में गन्ना किसानों के आंदोलन के कारण कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए उनके न आ पाने की जानकारी दी जिस पर अदालत ने नाराजगी जताते हुए एसएसपी को 17 नवंबर को स्वयं आने को कहा।


दिल्ली निवासी गौरव से जुलाई को शादी करने वाली मोनिका के परिजनों ने उसके अपहरण की शिकायत दर्ज कराई थी। इस पर यूपी पुलिस 12 जुलाई को गौरव और मोनिका को पकड़ कर गाजियाबाद ले गई। पुलिस ने लड़की को उसके परिजनों के हवाले कर गौरव को जेल भेज दिया। गौरव ने 14 अगस्त को जमानत मिलने पर हाईकोर्ट में 11 सितंबर को याचिका दायर कर उसे परिजनों से मुक्त कराने की मांग की। यूपी पुलिस ने परिजनों के हवाले से अदालत को बताया कि मोनिका की मौत हो गई है। बिना पोस्टमार्टम कराए लड़की का अंतिम संस्कार करने पर अदालत ने नाराजगी जताते हुए पुलिस को कहा था कि अगर मोनिका जिंदा है तो कोर्ट में पेश करे और अगर मर गई है तो एसीपी स्तर के अधिकारी से जांच करा कर रिपोर्ट पेश करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोनिका डागर मामले में पुलिस को मिली फटकार