DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लगभग छह नक्सली चुनाव मैदान में

देश में नक्सलियों का केन्द्र माने जाने वाले झारखंड में इस बार विधानसभा चुनाव में कम से कम छह नक्सली अपना रास्ता छोड़कर लोकतंत्र में अपनी आस्था व्यक्त करते हुए चुनाव मैदान मे उतरे हैं।

राज्य में कई कट्टर नक्सली हिंसा का रास्ता छोड़कर मुख्य धारा में शामिल होने का प्रयास कर रहे हैं। खूंटी, अड़की में पीएलएफआई के नाम पर आतंक मचाने वाले मसीह चरण को इस बार झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने खूंटी (सुरक्षित) क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है और वह अब भी खूंटी जेल में बंद है। तोड़पा विधानसभा क्षेत्र से भी झामुमो ने बानो के एरिया कमांडर रहे पौलुस सुरीन को उम्मीदवार बनाया है और वह इस समय गुमला जेल में बंद है।

झामुमो ने पूर्व माओवादी सतीश कुमार को डालटनगंज से और युगल पाल को विश्रामपुर से प्रत्याशी बनाया है। पाल इस समय जेल में है। कभी झामुमो का सहयोगी रहा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने भी उसका अनुकरण करते हुए रंजन यादव को पांकी से उम्मीदवार बनाया है। रंजन पूर्व में माओवादी रहा है और उसे राजद ने अपने निवर्तमान विधायक विदेश सिंह का टिकट काटकर मैदान में उतारा है। सिमरिया विधानसभा क्षेत्र से ऑल स्टूडेंट्स यूनियन ने कुलदीप गंझू को उम्मीदवार बनाया है। कुलदीप पूर्व में माओवादी रहा है।

उल्लेखनीय है कि कट्टर नक्सली और जोनल कमांडर रहा कामेश्वर बैठा पिछले लोकसभा चुनाव में पलामू (सु0) संसदीय क्षेत्र से झामुमो के टिकट पर सांसद चुना गया था और उसकी सफलता को देखकर इस बार फिर से झामुमो ने चार नक्सलियों को टिकट दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लगभग छह नक्सली चुनाव मैदान में