DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो बहनों ने दिए जीवनदान

दो बहनों ने दिए जीवनदान

साहसिक कार्य केवल बड़े ही नहीं करते, छोटे भी इसमें पीछे नहीं हैं। पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के गांव जोका की दो किशोरियों ने साहस जुटा कर दो युवकों की जान बचाई। 23 अप्रैल, 2008 को 16 साल की रीना कंवर, 14 साल की अनिता कंवर व उनकी चाची पास में मयूराक्षी बकटेश्वर मुख्य नहर पर नहाने के लिए गईं।

वे अभी वहां पहुंची ही थीं कि सहायता की पुकार सुन कर चौंक गईं। आवाज की दिशा की ओर उन्होंने दौड़ लगाई और कुछ दूर पर चार युवकों को डूबते व मदद के लिए चिल्लाते देखा। बिना देरी किए अनिता व रीना ने नहर में छलांग लगाई। वे तैरना नहीं जानती थीं, अत: तेज बहते पानी में ज्यादा दूर नहीं गईं, परंतु जल्दी ही उन्होंने अपने दुपट्टे युवकों की ओर फेंके। चाची गीता ने अपनी साड़ी खोल कर उनकी ओर फेंकी।

दो युवकों ने तो कपड़े पकड़ लिए और अनिता व रीना ने उन्हें किनारे खींच कर बचा लिया। अन्य दो युवक कपड़े न पकड़ सके और डूब गए। अनिता व रीना की वीरता से दो युवकों को जीवनदान मिला। अनिता व रीना के साहसिक कार्य की सबने तारीफ की। दोनों को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया। बच्चो, तुम भी संकट के समय साहस दिखा कर दूसरों की मदद करने से पीछे न हटना।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो बहनों ने दिए जीवनदान