DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर घड़ी साथ-साथ हैं हम

हर घड़ी साथ-साथ हैं हम

सलाम नमस्ते फिल्म में अरशद वारसी उस समय पत्नी का हौसला बढ़ाते दिखाई पड़ते हैं, जब उनकी पत्नी (तानिया) लेबर पेन से तड़प रही है। फिल्म का यह दृश्य एक यादगार दृश्य बन गया था और यह दृश्य यह भी याद दिलाता था कि जब पत्नी बच्चों के जन्म के समय पीड़ा सहती है तो उसका पति तकलीफ के उन क्षणों में उसके साथ होता है।
 
वास्तव में फिल्म के इस दृश्य में अरशद वारसी अपनी प्रसव पीड़ित पत्नी को भावनात्मक संबल देते दिखाई पड़ते हैं, लेकिन यह फिल्मी दृश्य खासतौर पर पुरुषों को इतना भाया कि यह दृश्य रियल लाइफ में भी दिखाई देने लगा है। खासतौर पर दिल्ली के पुरुष बच्चों के जन्म के इस अविस्मरणीय क्षण को खुद भी अनुभव करना चाहते हैं। बीएलके अस्पताल के गायनोक्लॉजी और ऑब्सटेट्रिक्स के चीफ को-ऑर्डिनेटर दिनेश कंसल के अनुसार 80 से 90 फीसदी पुरुष बच्चों के जन्म के गवाह बनना चाहते हैं।

अमित अग्रवाल, जो लेबर रूम में अपनी पत्नी के साथ थे, कहते हैं कि यह मेरी पत्नी का भी पुनर्जन्म था। मैं इस मौके पर उसके साथ होना और उसे भावनात्मक रूप से समर्थन देना चाहता था। फोर्टिस ला फेम अस्पताल में गायनोक्लोजी और आब्सटेट्रिक्स में वरिष्ठ सलाहकार डॉक्टर रंजना शर्मा का कहना है कि परंपरागत रूप से लेबर रूम में केवल महिलाएं ही गर्भवती महिला के साथ रह सकती हैं, लेकिन अब इसका चार्ज खुद पुरुषों ने ले लिया है।
 
रूटीन चैकअप से लेकर डिलीवरी तक पुरुष अपनी पत्नी के साथ होना चाहते हैं। पुरुषों की इस प्रबल इच्छा के चलते ही दिल्ली के कुछ निजी अस्पतालों ने लेबर रूम में पुरुषों के रहने को मंजूरी दे दी है। मैक्स अस्पताल की गायनाक्लॉजिस्ट डॉक्टर पायल सिंघल का कहना है कि पहले जहां पुरुष इस तरह के मामलों में बेहद संकोची हुआ करते थे, वहीं अब उनका संकोच टूट रहा है। हाल ही में एक बेटी के पिता बने श्री लामा कहते हैं कि यह मेरा और मेरी पत्नी का फैसला था, इसलिए मैं अपनी पत्नी के साथ लेबर रूम में ही रहा और इस चीज ने मेरे और पत्नी के बीच के रिश्ते को और मजबूत किया।

लेकिन सभी पुरुष इतने मजबूत नहीं होते। संजय (बदला हुआ नाम) ने भी लेबर रूम में अपनी पत्नी के साथ रहने का फैसला किया था, लेकिन जब पत्नी दर्द से चिल्लाने लगी तो उनसे बर्दाश्त नहीं हुआ और वह रूम से बाहर आ गए। लेकिन ऐसा लगता है कि आने वाले समय में ऐसे मामले और भी अधिक देखने में मिलेंगे, जिनमें पति लेबर रूम में अपनी पत्नी के साथ होगा और उसे भावनात्मक मजबूती दे रहा होगा। और यह एक अच्छा संकेत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हर घड़ी साथ-साथ हैं हम