DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार के विकास में गरीबी और अशिक्षा बड़ी बाधा: रिपोर्ट

वैश्विकरण के वर्तमान दौर में जब किसी भी क्षेत्र में रोजगार के लिए प्रशिक्षित युवाओं की जरुरत है लेकिन बिहार के युवाओं को रोजगारपरक शिक्षा उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। इस कारण राज्य के हर पांच में से एक पुरुष और हर चार में से एक महिला बेरोजगार है।

अंतरराष्ट्रीय जनसंख्या विज्ञान संस्थान मुंबई और पॉपुलेशन काउन्सिल नई दिल्ली द्वारा भारतीय युवा परिस्थिति एवं आवश्यकताओं का अध्ययन नामक रिपोर्ट में बिहार के 8136 युवाओं पर कराए गए सर्वेंक्षण में यह बात सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक कम शिक्षित युवाओं की तुलना में अधिक युवाओं में बेरोजगारी का प्रतिशत अधिक है। सर्वेक्षण में 66 प्रतिशत युवा पुरुष और 82 प्रतिशत युवा महिलाओं ने बताया कि वे रोजगार के लिए व्यवसायिक प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते हैं लेकिन विभिन्न कारणों से वे यह प्रशिक्षण हासिल नहीं कर पा रहे हैं। राज्य में करीब 10 प्रतिशत लोग ही व्यवसायिक प्रशिक्षण प्राप्त हैं।

रिपोर्ट के अनुसार युवाओं के विकास में गरीबी और अशिक्षा सबसे बड़ी बाधा है। गरीबी के कारण राज्य के 68 प्रतिशत युवा और 37 प्रतिशत युवतियां सातवीं कक्षा तक पढ़ाई पूरी नहीं कर पाते हैं। तीस प्रतिशत युवा पुरूष और 13 प्रतिशत महिलाओं ने माध्यमिक स्तर तक शिक्षा पूरी की है। संचार क्रांति के इस दौर में भी इंटरनेट की पहुंच केवल छह प्रतिशत युवाओं और महज तीन प्रतिशत युवतियों तक सीमित है। आश्चर्यजनक तथ्य यह भी सामने आया है कि राज्य के नब्बे प्रतिशत से अधिक युवक-युवतियों को यौन शिक्षा के बारे में जानकारी नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार के विकास में गरीबी और अशिक्षा बड़ी बाधा: रिपोर्ट