DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माया-ममता का चला जादू, कांग्रेस ने भी काटी चांदी

माया-ममता का चला जादू, कांग्रेस ने भी काटी चांदी

लोकसभा चुनाव के बाद देश के सात राज्यों में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए उत्तर प्रदेश में सपा से फिरोजाबाद लोकसभा सीट छीन ली है जबकि तृणमूल कांग्रेस के समर्थन से पश्चिम बंगाल में और केरल में अकेले वाम मोर्चे पर भारी पड़ी।

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ बसपा ने राज्य की 11 सीटों में से नौ पर विजय हासिल की है और उसने समाजवादी पार्टी से चार सीटें छीन ली है। राज्य में 11 विधानसभा सीट पर उपचुनाव कराये गए थे।

राज्य की फिरोजाबाद लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार तथा अभिनेता से नेता बने राज बब्बर ने सपा उम्मीदवार तथा पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव की पुत्रवधु डिंपल यादव को 85 हजार से भी अधिक मतों से हराया।
    
इसी साल मई में हुए आम चुनाव में डिंपल के पति तथा सपा नेता अखिलेश यादव कन्नौज तथा फिरोजाबाद से सांसद चुने गए थे। कन्नौज सीट को बरकरार रखते हुए उन्होंने फिरोजाबाद से इस्तीफा दे दिया था जहां पार्टी ने डिंपल को मैदान में उतारा था। आम चुनाव में राज बब्बर उत्तर प्रदेश की सिकरी लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव हार गए थे।

कांग्रेस ने कुल मिला कर 31 में से दस विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की है। उत्तर प्रदेश में 11, पश्चिम बंगाल में 10, केरल में तीन, असम, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में दो-दो जबकि छत्तीसगढ़ में एक विधानसभा सीट पर उपचुनाव कराये गए थे।

केरल में कांग्रेस ने सभी तीन सीटों पर विजय हासिल की है। इससे पहले भी प्रदेश में लोकसभा चुनाव के दौरान वहां से वाम दलों का सफाया हो गया था। तीन में से एक सीट पर जीत हासिल करने वाले माकपा के पूर्व सांसद एपी अब्दुल्ला कुट्टी हैं जो हाल ही में कांग्रेस में शामिल हो गए थे।
    
कांग्रेस ने असम की भी दोनों सीटे जीत ली है। पार्टी ने इसके अलावा उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ और हिमाचल प्रदेश में एक-एक सीट पर जीत हासिल की है।
    
केरल और पश्चिम बंगाल में सरकार की अगुवाई करने वाली माकपा को एक दर्जन सीटों पर हार का मुंह देखना पड़ा। तृणमूल कांग्रेस ने लोकसभा का अपना प्रदर्शन दोहराते हुए दस में से सात पर जीत हासिल कर चुकी है। राज्य में वाम पंथियों के लिए राहत की बात यह रही कि फारवर्ड ब्लॉक ने गोलपोखार सीट कांग्रेस से छीन ली है। बाकी एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार विजय हुआ है।

उपचुनावों में अपनी पार्टी की शानदार विजय पर तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी ने कहा कि यह लोकतंत्र और शांति की जीत है। ममता ने इस जीत को मां, माटी और मानुष की जीत करार दिया है।

पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्य ने इस चुनाव परिणाम पर किसी प्रकार की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। वाममोर्चा के चेयरमैन बिमान बोस ने कहा कि वाम दल इस जनादेश को स्वीकार करते हैं और हार के कारणों के लिए जिम्मेदार कारकों की समीक्षा करेंगे। माकपा के प्रदेश सचिव ने यह भी कहा कि यह जनादेश वाम मोर्चे के खिलाफ गया है। हमलोगों ने इस जनादेश को स्वीकार किया है। हम इसका विश्लेषण करेंगे।
    
प्रधानमंत्री बनने का सपना देखने वाली उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती की पार्टी ने आश्चर्यजनक रूप से उपचुनावों में वापसी की है। लोकसभा चुनावों में उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में बसपा का खराब प्रदर्शन रहा था। उत्तर प्रदेश में बसपा उम्मीदवारों ने सात सीटें जीती हैं। पार्टी ने इसौली, हेंसर बाजार, इटावा, भरथना तथा पुवायां विधानसभा सीट सपा से जबकि पड़रौना सीट कांग्रेस से छीन ली है। पार्टी ने इसके अलावा  रारी और ललितपुर पर अपना कब्जा बरकरार रखा है। राज्य के कोलअसला विधानसभा सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार अजय राय ने लगातार चौथी बार जीत दर्ज की है ।

राजस्थान और हिमाचल प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस को एक-एक सीट मिली है हालांकि छत्तीसगढ़ में वैशालीनगर सीट कांग्रेस ने भाजपा से छीन ली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माया-ममता का चला जादू, कांग्रेस ने भी काटी चांदी