DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुन्ना बजरंगी मकोका के जाल में

उत्तर प्रदेश व दिल्ली समेत देश के कई राज्यों में गैरकानूनी गतिविधियों का नेटवर्क कायम करने के इल्जाम में कुख्यात इनामी माफिया मुन्ना बजरंगी को मकोका के तहत आरोपी बनाया गया है। मकोका की कार्रवाई में मुन्ना के कथित साथी उत्तर प्रदेश के पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी को भी शामिल किया गया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने सोमवार को तीस हजारी स्थित एडिशनल सेशन जज मधु जैन की अदालत में मुन्ना व उसके साथी के खिलाफ मकोका के तहत दर्ज एफआईआर की प्रति पेश की। अदालत ने मकोका के तहत माफिया मुन्ना बजरंगी को 30 दिन की रिमांड पर स्पेशल सेल के हवाले कर दिया है।

वहीं इस मामले में सहआरोपी बनाए गए वाराणसी से पिछले चुनावों में लोकसभ चुनाव हार चुके मुख्तार अंसारी के खिलाफ अदालत ने 16 नवंबर के लिए प्रोडक्शन वारंट जारी किए हैं। फिलहाल अंसारी  भाजपा विधायक कृष्णानंद रॉय की वर्ष 2005 में हुई हत्या के मामले मे गाजीपुर (उत्तर-प्रदेश) जेल में बन्द है। अंसारी पर बजरंगी के साथ राजधानी दिल्ली के कई अपराधिक मामलों में शामिल होने का आरोप है।

बजरंगी को रिमांड पर लेने के लिए सरकारी वकील बी एस कैन और नवीन कुमार ने अदालत में दलील पेश की कि  बजरंगी को बीते रविवार को मकोका मामले में गिरफ्तार किया गया है। उसने अपने साथी मुख्तार अंसारी के साथ संगठित अपराध जैसे फिरौती, हत्या, हत्या प्रयास आदि को बड़े ही शातिर तरीके से अंजाम दिया है। उसके खिलाफ उत्तर-प्रदेश, महाराष्ट, व दिल्ली  समेत कई राज्यों में मामले दर्ज हैं।

दूसरी तरफ बचाव पक्ष के अधिवक्ता भरत दूबे ने बजरंगी पर मकोका लगाए जाने का विरोध किया। उन्होंने अदालत में कहा कि बजरंगी पर मकोका महज इसलिए लगाया गया है चूंकि पुलिस उनके मुवक्किल को रिमांड पर लेना चाहती थी। अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद बजरंगी को 30 दिन की रिमांड पर स्पेशल सेल के सुपुर्द कर दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुन्ना बजरंगी मकोका के जाल में