DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जयराम की देखरेख में कांग्रेस का चुनावी ‘वार रूम’

लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस का ‘वार रूम ’ सक्रिय हो गया है। गुरुद्वारा रकाबगंज पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलौत के नाम पर आवंटित 15 नंबर के बंगले पर स्थित इस चुनावी वार रूम की कमान मनमोहन मंत्री परिषद से त्यागपत्र दे चुके कांग्रेस के चुनावी मामलों के समन्वयक जयराम रमेश को सौंपी गई है। तमाम तरह के अत्याधुनिक संचार उपकरणों से सज्जित इस वार रूम में कांग्रेस के चुनाव अभियान में लगी विज्ञापन एवं जन संपर्क एजेंसियों- आइपैन, परफेक्ट रिलेशंस, क्रेयांस, परसेप्ट और जे डब्ल्यूटी के लोग भी बैठते हैं। वहां आम लोगों, मीडिया का प्रवेश भी वर्जित है। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार वार रूम के मुख्य कक्ष में जयराम रमेश बैठते हैं। उनके पीछे भारत का एक बड़ा नक्शा है जिसमें वह हर, लाल, पीले रंगो की स्याही से सोनिया गांधी, राहुल गांधी एवं कांग्रेस के अति विशिष्ट नेताओं की मांग के हिसाब से उनके चुनावी कार्यक्रमों का खाका बनाते हैं। नेताओं के चुनावी दौर, विमान-हेलीकॉप्टर, वाहन, स्थानीय रिसेप्शन के साथ ही अति विशिष्ट नेताओं के चुनावी दौर में उनके साथ जाने वाले नेताओं आदि के बार में भी वही तय कर रहे हैं। चुनावी भाषण लिखने की टीम भी तैयार है। उन्हें नेताओं के चुनावी दौर के दो दिन पहले विषयवस्तु और एजेंडा बता दिया जाएगा। आमतौर पर श्रीमती गांधी और राहुल गांधी के भाषण श्री रमेश और पार्टी के महासचिव जनार्दन द्विवेदी ही लिखते हैं। इस वार रूम को कांग्रेस मुख्यालय में ऑस्कर फर्नाडिस के कार्यालय से भी जोड़ा गया है। ऑस्कर विजेता फिल्म ‘स्लम डॉग मिलियनेयर’ के ऑस्कर विजेता गीत ‘जय हो’ की पृष्ठभूमि पर बनी कांग्रेस के चुनावी विज्ञापानों की एक एक मिनट की तीन फिल्मों के निर्माण में भी इस वार रूम की महत्वपूर्ण भूमिका रही। वार रूम में रोाना कांग्रेस एंव अन्य दलों के बार में प्रकाशित-प्रसारित समाचारों, चुनाव सामग्रियों का संकलन, विश्लेषण और उस पर आधारित रणनीति तैयार होती है। हर शाम सात बजे दिन भर के घटनाक्रमों का जायजा लेकर भविष्य की रणनीति तैयार करने के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं-अहमद पटेल, जनार्दन द्विवेदी, दिग्विजय सिंह, पृथ्वीराज चह्वाण, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, ऑस्कर फर्नाडिस, अंबिका सोनी, सलमान खुर्शीद, वीरप्पा मोइली, विश्वजीत पृथ्वीजीत सिंह, कपिल सिब्बल और अभिषेक सिंघवी की बैठक होती है। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार इस टीम के अधिकतर सदस्य वहीं हैं जो पांच साल पहले साउथ एवेन्यू से संचालित कांग्रेस के तत्कालीन वार रूम से जुड़े थे। वार रूम के साथ कुछ विशेषज्ञ पेशेवरों को भी जोड़ा जा रहा है। इस टीम के दिल्ली में उपलब्ध सदस्य पार्टी के चुनाव अभियान की दशा दिशा की समीक्षा और निर्धारण के साथ ही वार रूम के सदस्यों को वभिन्न विषयों पर विशेषज्ञों की राय से सज्जित करते हैं। मसलन गुरुवार और शुक्रवार को विदेश मंत्री प्रणव मुखर्जी और गृह मंत्री पी चिदंबरम ने वार रूम को विश्व व्यापी आर्थिक मंदी के संदर्भ में देश की आर्थिक स्थित के साथ ही विदेश नीति और देश में आतंकवाद एवं पाकिस्तान के ताजा घटनाक्रमों के बार में जानकारी दी। इसी तरह कर्नाटक के तुमकू र में तीसर मोर्चे के अस्तित्व में आने और लोकसभा चुनाव और बाद के राजनीतिक परिदृश्य में इसकी संभावित भूमिका आदि के बार में वार रूम में विस्तार से चर्चा की गई। वार रूम विपक्ष के चुनाव अभियान के मद्देनजर कांग्रेस के चुनाव अभियान में हेर फेर, जवाबी बयान-विज्ञापनबाजी आदि के बार में भी रणनीति तैयार करने में भी जुटा है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जयराम की देखरेख में कांग्रेस का ‘वार रूम’