DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुख्यमंत्री ने आंदोलनकारियों को पेंशन के कागज सौंपे

पिछले स्थापना दिवस पर घोषित राज्य आंदोलनकारियों की पेंशन अब मिलनी शुरू हो गई है। सोमवार को राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री डा. रमेश पोखरियाल निशंक ने आंदोलनकारियों को सम्मान पत्र के साथ पेंशन के कागज सौंपे। सीबीआई का मुकदमा ङोलने वाले आंदोलनकारियों को एक लाख की सम्मान राशि दी गई।

सात दिन तक जेल में रहने वाले ऐसे लोगों को पेंशन की घोषणा की   गई थी, जिन्होंने किन्हीं कारणों से सरकारी नौकरी नहीं की थी। राज्य सरकार ने बाद में घायलों को भी पेंशन की श्रेणी में शामिल किया। सात दिन जेल जाने वाले 176 व घायल 87 आंदोलनकारियों को तीन हजार की पेंशन दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने सुशीला ध्यानी, रामकृष्ण पंत, रवीन्द्र जुगरान, लताफत हुसैन, मायाराम सेमवाल को पेंशन के कागज सौंपे।

इसके अलावा सीबीआई का मुकदमा ङोलने वाले देवेन्द्र मित्तल, शूरवीर सिंह, सुभाषिनी बड़थ्वाल, रवीन्द्र रावत, राजीव मोहन को एक लाख की सम्मान राशि दी गई। प्रदेश में 31 लोगों को एक लाख, 75 हजार व 50 हजार की धनराशि दी जाएगी। वरिष्ठ महिला आंदोलनकारी कलावती जोशी, जानकी कुकरेती, बुद्धि नेगी, दमयंती देवी, सावित्री गुसाईं को भी सम्मानित किया गया।

राज्य आंदोलन के दौरान दो लोगों विनोद चमोली व राजेन्द्र साह पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाया गया था। सरकार ने उन्हें पांच हजार रुपए मासिक पेंशन देने की घोषणा की है। सम्मान समारोह के दौरान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भूदेव शास्त्री, डा. मुनेश्वर सिंह, कैप्टन रघुवंशलाल अवस्थी, शांति नारायण शर्मा, परिपूर्णानंद पैन्यूली, भवान सिंह रावत के साथ वरिष्ठ कुमाऊंनी कवि शेर दा अनपढ़ को भी सम्मानित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुख्यमंत्री ने आंदोलनकारियों को पेंशन के कागज सौंपे