DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुविधाएं उपलब्ध फिर भी ऑपरेशन नहीं

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कहने के लिए तो सर्जन व ऑपरेशन थियेटर है, लेकिन पिछले छह माह में यहां मात्र चार ही माइनर सर्जरी हुई है। सुविधा होने के बावजूद भी ऑपरेशन न होने के चलते इलाज के लिए आए मरीजों में भारी रोष व्याप्त है। 

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में आसपास के गांवों से प्रतिदिन इलाज कराने के लिए पांच से छह सौ मरीज इलाज कराने के लिए पहुंचते हैं। इलाज के नाम पर अस्पताल में खानापूर्ति की जा रही है। अस्पताल में माइनर सजर्री (अपेंडिक्स, हरनिया) आदि की सुविधा है। माइनर सजर्री के लिए प्रतिदिन एक-दो मरीज अस्पताल में पहुंचते हैं, लेकिन इन मरीजों का ऑपरेशन नहीं किया जाता। मरीजों को सुविधा न होने की बात कहकर वापस लौटा दिया जाता है। अगर सरकारी अस्पताल के आंकड़े पर गौर किया जाए तो अप्रैल 09 से अब तक मात्र चार ही माइनर सर्जरी की गई हैं। इनमें एक हरनिया, तीन मामुली चीरफाड़ की हैं।

मरीजों का कहना है कि कई चक्कर लगाने के बाद भी स्वास्थ्य केन्द्र में सर्जरी नहीं की जाती है। इस संबंध में अस्पताल के सीएमएस डॉक्टर अदित्यपाल सैनी का कहना है कि अस्पताल में डॉक्टरों की कमी होने के कारण सर्जन डॉक्टर ओपीडी व पोलियो ड्यूटी में व्यस्त रहते हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सुविधाएं उपलब्ध फिर भी ऑपरेशन नहीं