DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इस बार सीसीएल के लिए कठिन है डगर संवाददाता रांची

इस साल सीसीएल के लिए उत्पादन की डगर कठिन है। लक्ष्य 47 मिलियन टन पाना मुश्किल है। अभी कंपनी इससे काफी पीछे है। हालात के मद्देनजर पिछले वर्ष से अधिक उत्पादन करना ही उपलब्धि होगी। हालांकि फरवरी तक कंपनी पिछले साल की तुलना में करीब 0.एमटी अधिक उत्पादन कर चुकी है।ड्ढr चालू वर्ष के 11 महीने में कंपनी 35.70 एमटी उत्पादन कर चुकी है। फरवरी 0में प्रबंधन ने 6.4एमटी उत्पादन का लक्ष्य रखा था। इसके विरुद्ध करीब पांच एमटी ही उत्पादन हो सका। अधिकारी इसके लिए बंदी सहित विभिन्न कारकों को जिम्मेवार ठहराते हैं। मार्च में 8.एमटी उत्पादन करने की योजना है। 12 मार्च तक 2.64 एमटी उत्पादन हो चुका था। लक्ष्य पाने के लिए बचे दिनों में 6.3 एमटी उत्पादन करना होगा। पिछले साल 44.15 एमटी उत्पादन हुआ था।ड्ढr खान सुरक्षा में तीन ट्रॉफीड्ढr नागपुर में हुए अखिल भारतीय खान सुरक्षा और बचाव प्रतियोगिता (कोयला एवं धातु) में सीसीएल को तीन ट्रॉफियां मिली हैं। जनसंपर्क प्रमुख एमएन झा ने बताया कि फस्ट एड में प्रथम और फ्रेश एयर बेस में द्वितीय पुरस्कार मिला है। टीम की समग्र निष्पादन पर कंपनी चौथे पयदान पर रही। इस प्रतियोगिता में देश भर की 22 टीमों ने हिस्सा लिया था। खान सुरक्षा महानिदेशक एमएम शर्मा मुख्य अतिथि थे। अध्यक्षता डब्ल्यूसीएल के सीएमडी डीसी गर्ग ने की। सात सदस्यों को व्यक्ितगत पुरस्कार और सर्टिफिकेट भी मिला। इसका नेतृत्व बरका-सयाल के वरीय एमइ मो आफताब ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इस बार सीसीएल के लिए कठिन है डगर संवाददाता रांची