DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाड़ी में भी ‘ग्रीन’ चाहिए

गाड़ी में भी ‘ग्रीन’ चाहिए

एक तरफ तो लोग गाड़ियों के नए-नए मॉडल्स के दीवाने हो रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनके तकनीकी पहलुओं
के बारे में भी खूब जानना-समझना चाहते हैं। यही कारण है कि जब वाहनों के लिए ऐसे ईंधन की बात हुई, जिनसे प्रदूषण न फैले तो विशेषज्ञों के अलावा आम लोगों ने भी इसमें खूब दिलचस्पी दिखाई। पूरे परिदृश्य को देखते हुए विभिन्न कंपनियां भी गाड़ियों के ऐसे-ऐसे मॉडल बाजार में उतारने लगीं, जिन्हें सही अर्थो में पर्यावरण हितषी गाड़ियां कह सकते हैं। ऐसी गाड़ियां जो या तो सीएनजी/ एलपीजी से चलती हैं या फिर उनमें कुछ ऐसी तकनीकी खूबियां होती हैं, जिनसे पर्यावरण प्रदूषण कम होता है।

पिछले दिनों ऐसी पर्यावरण हितैषी गाड़ियों और ईंधन की जरूरत के मद्देनजर एक विश्वव्यापी सर्वेक्षण कराया गया, जिसमें ब्राजील, चीन, फ्रांस, जर्मनी, रूस, इंग्लैंड सहित भारत के भी कार के शौकीनों ने हिस्सा लिया। इस सर्वेक्षण में 3100 से भी अधिक ग्राहकों को शामिल किया गया। इनमें से अधिकांश ग्राहकों ने ग्रीन फ्यूल के समर्थन में वोट डाले, बिना इस बात पर ज्यादा सोच-विचार किए कि ऐसी गाड़ियों में किन दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। स्पष्ट है कि पर्यावरण को प्रदूषण से बचाए रखने का मामला पूरी दुनिया के कार ग्राहकों की नजर में भी सबसे ऊपर है।

हालांकि कार खरीदने के मामले में गाड़ी का सिर्फ सीएनजी पर चलना ही काफी नहीं होता, बल्कि और भी कई बातें ध्यान में रखनी पड़ती हैं, जैसे सुरक्षा, ईंधन की खपत, रफ्तार, कीमत आदि। पर यह भी सच है कि ग्रीन कार का कॉन्सेप्ट लोगों को पूरी दुनिया में काफी लुभा रहा है और इसके चाहने वालों की संख्या साल-दर-साल बढ़ती ही जा रही है। खासकर सीएनजी गाड़ियों की लोकप्रियता आनेवाले समय में सबसे अधिक होने वाली है, क्योंकि यह पर्यावरण हितैषी होने के साथ-साथ किफायती भी है। बैटरी से चलने वाली ग्रीन कार भी लोगों की पसंद बनती जा रही है, पर तुलनात्मक रूप से यह अधिक महंगी है और रफ्तार भी ज्यादा तेज नहीं है। बावजूद इसके पर्यावरण के समर्थक ऐसी गाड़ियों को खरीदने में पीछे नहीं हैं।         

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गाड़ी में भी ‘ग्रीन’ चाहिए