DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाजार खुला पर जनता में रोष बरकरार

जनता महंगाई से त्रस्त है। मजबूरी ने शांत बैठा दिया है। पथराव, आगजनी, तोड़फोड़ और बवाल के अगले दिन रविवार को जगदीशपुरा बाजार खुल गया। व्यापारी पहले दुकानें खोलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे। बाद में क्षेत्रीय विधायक गुटियारीलाल दुबेश ने व्यापारियों को विश्वास दिलाया कि अब कुछ नहीं होगा। वे पूरी तरह सुरक्षित हैं। इधर, क्षेत्र की महिलाएँ घटना के लिए एसीएम तृतीय को जिम्मेदार ठहरा रहीं हैं। उनका आरोप है कि शांत भीड़ को एसीएम ने भड़काया। महिलाओं पर लाठीचार्ज और युवक को तमाचा जड़ने पर भीड़ भड़की थी।

एसपी सिटी उदय प्रताप और सीओ लोहामंडी पुत्तूराम सुबह ही जगदीशपुरा क्षेत्र में पहुँच गए। बाजार का निरीक्षण किया। एहतियातन फोर्स को मौके पर ही तैनात रहने के निर्देश दिए। स्थिति को और सामान्य करने के लिए बसपा विधायक गुटियारीलाल दुबेश को आगे लाया गया। उनके आग्रह पर व्यापारियों ने दुकानें खोल लीं। दिन में लोहामंडी-बोदला मार्ग पर पहले जैसी चहल-पहल नजर आई।

बवाल को पुलिस ने नजरंदाज नहीं किया है। एसओ जगदीशपुरा रामऔतार गौतम ने वादी बनकर मुकदमा लिखाया है। बलवा, तोड़फोड़, जाम, आगजनी, पथराव और सात क्रिमनल लॉ के तहत 800 महिलाओं व पुरुषों के खिलाफ मुकदमा लिखा गया है। मुकदमे में कोई नामजद नहीं है। पुलिस का कहना है कि बवाल करने वाले अवांछनीय तत्वों को चिह्न्ति किया जा रहा है।

जगदीशपुरा क्षेत्र की हर महिला की जुबान पर दिन में एक ही बात थी। प्रदर्शन का कोई नतीजा नहीं निकला। एसीएम ने बवाल और करा दिया। महिलाओं पर लाठियां बरसाईं गईं। जनता शांत थी, सिर्फ जाम लगाया था। उनकी बात सुनने कोई अधिकारी आ जाता तो वे अपने आप हट जातीं। महंगाई आसमान छूती जा रही है। चीजों के दाम इसी तरह बढ़े तो पूरे शहर में ऐसे प्रदर्शन होंगे। पुलिस प्रशासन रोक नहीं पाएगा। गरीब आदमी का मरना हो गया है। बच्चों को भूख से तड़पते कोई नहीं देख सकता। स्थिति यह है कि महिलाओं को भी मजदूरी करने के लिए निकलना पड़ रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाजार खुला पर जनता में रोष बरकरार