DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्किटेक्ट : कॅरियर का परफेक्ट डिजाइन

एक जमाना था, जब लोग बुनियादी जरूरत के तौर पर मकान बनाना ही काफी समझते थे, लेकिन अब सिर्फ मकान पर नहीं, उसके डिजाइन, सुख-सुविधाओं और स्टाइल पर भी उतना ही जोर दिया जाता है। इसीलिए पिछले कुछ दशकों से हमारी अर्थव्यवस्था में आए बूम की वजह से कंस्ट्रक्शन और रिएल इस्टेट क्षेत्रों में जबरदस्त उछाल देखा गया है और इसकी मिसाल है छोटे-बड़े शहरों में तेजी से खड़ी खूबसूरत, ऊंची रिहायशी और कमर्शियल इमारतें। इनके निर्माण में डिजाइनर्स और बिल्डरों की भूमिका अहम है और सच तो ये है कि आर्किटेक्चर और डिजाइन के क्षेत्र में कंप्यूटर टेक्नोलॉजी ने एक तरह से क्रांति ही ला दी है।

डिजाइन सॉल्यूशन
उच्च गुणवत्ता के डिजाइन सॉल्यूशन बनाने के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है। बिल्डिंग डिजाइन में एक खास बात यह है कि इसके आर्ट वर्क में कला के साथ विज्ञान भी है यानी केवल कल्पना ही नहीं, व्यावहारिकता भी होती है। क्लाइंट या कंपनी की ओर से आर्किटेक्ट को बजट और बनाई जाने वाली बिल्डिंग के बारे में बता दिया जाता है कि वह कमर्शियल होगी या रेजीडेंशियल। आर्किटेक्ट अपनी एक्सपर्टीज का इस्तेमाल करते हुए इन गाइडलाइंस को ध्यान में रखकर स्कैच और मॉडल बनाकर यथासंभव बेहतर डिजाइन का नक्शा तैयार करता है। इन सभी कार्यो को कंप्यूटर ने अब और आसान बना दिया है।

योजना और एप्लीकेशन
वीडियो एनिमेशन ने डिजाइन के क्षेत्र में जबरदस्त परिवर्तन ला दिया है। कंप्यूटर ने लैंडस्केप रिसोर्स की तकनीकी जैसे  विजुअल सिमुलेशन, कंप्यूटर मैप ओवरले, रिसोर्स मॉडलिंग, वीडियो एप्लीकेशन और ऑटोमेटेड डिसीजन सपोर्ट सिस्टम में रिसर्च के इस्तेमाल का काम काफी आसान बना दिया है। यही नहीं, ऑटोमेटेड स्पेशियल मॉडलिंग और विश्लेषण के इस्तेमाल ने इस क्षेत्र में कई मुश्किल काम आसान कर दिए हैं।

कंप्यूटर का बढ़ता प्रयोग मौजूदा दौर में आर्किटेक्चर में ज्यादातर काम कंप्यूटर की मदद से अंजाम दिए जाते हैं, मसलन डिजाइन, ब्लू प्रिंट, मॉडल, थ्री डी मॉडल, लागत गणना, लेआउट टेस्टिंग, ढांचागत जांच और कंस्ट्रक्शन मैनेजमेंट। कंप्यूटर की वजह से सबसे ज्यादा आसानी तो डिजाइन, ब्लू प्रिंट और मॉडल बनाने में हुई है क्योंकि इन कामों में बहुत दिक्कत होती थी। वर्ल्ड वाइड वेब (666) में जावा (ए) और वर्चुअल रियलिटी मॉडलिंग लैंग्वेज (वीआरएमएल) को शामिल करते हुए, एप्लीकेशन पहली बार इंटेल ने ही लांच किया था।

ये दोनों टेक्नोलॉजी मल्टीप्लेटफॉर्म फाइल-फॉर्मेट स्टेंडर्ड की हैं, जिसकी मदद से डेवलपर्स थ्री-डी दृश्यों के लेआउट और कंटेट को सामने ला पाए। आर्किटेक्चरल डिजाइन के क्षेत्र में ये एक महान कामयाबी थी। जाहिर है कि इस क्षेत्र में कंप्यूटर इस्तेमाल ने रोजगार के नए दरवाजे खोले हैं।

कैसे पाएं प्रवेश
अगर आप आर्किटेक्ट बनना चाहते हैं, तो 12वें स्तर पर आपके पास भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित होने चाहिए। इसमें आने के लिए आर्किटेक्चरल डिजाइन, कंस्ट्रक्शन विधियां, आर्ट एप्रिसिएशन, बिल्डिंग मैनेजमेंट, नेचर एंड एन्वायरन्मेंट और हिस्ट्री ऑफ आर्किटेक्चर जैसे उपविषयों वाला पांच साल का बी.आर्क. कोर्स करना होगा।

रोजगार की जबरदस्त संभावनाएं
कॅरियर काउंसलर परवीन मल्होत्र का कहना है कि इस क्षेत्र में अभी योग्य और प्रशिक्षित लोगों की कमी है। ऐसे में रोजगार के लिहाज से इस क्षेत्र में संभावनाएं काफी हैं। इस क्षेत्र की खासियत ये है कि आप चाहें तो स्वरोजगार भी शुरू कर सकते हैं। जिस तरह से पिछले एक-दो दशकों में कंस्ट्रक्शन के कामों में तेजी आई है तो उसे देखते हुए अगर आपमें हुनर है तो इस सेक्टर में नौकरियों की तो कोई कमी
नहीं है।

कहां से करें आर्किटेक्चर कोर्स
- स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर, नई दिल्ली
- गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ आर्किटेक्चर, लखनऊ
- इंडियन इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर
- रुड़की विश्वविद्यालय, रुड़की
- मौलाना आजाद कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी, भोपाल
- चंडीगढ़ कॉलेज ऑफ आर्किटेक्चर, चंडीगढ़
- गोवा कॉलेज ऑफ आर्किटेक्चर, गोवा
- मनिपाल इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मनिपाल
- बिरला इंस्टीटय़ूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मिसरा, रांची
- जामिया मिलिया इस्लामिया, जामिया नगर, नई दिल्ली
- सेंटर फॉर इन्वायरन्मेंटल प्लानिंग एंड टेक्नोलॉजी, अहमदाबाद

कैड से जुड़े कोर्स 
- थ्री डी और एडवांस्ड थ्री डी मॉडलिंग
- कंप्यूटर एडेड इंटीरियर डिजाइन
- एडवांस्ड एप्लीकेशन ऑफ आटोकैड
- आटोकैड

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्किटेक्ट : कॅरियर का परफेक्ट डिजाइन