DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुंबई की रक्षा में जल्द ही जुटेगा `फोर्स वन'

मुंबई की रक्षा में जल्द ही जुटेगा `फोर्स वन'

मुंबई हमलों के एक साल बाद शहर को फोर्स वन कमांडोज का पहला दस्ता मिल गया है। नेशनल सिक्योरिटी गाडर्स (एनएसजी) की तर्ज पर बनाए गए फोर्स वन कमांडो शहर की सुरक्षा का दायित्व निभाएंगे।

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) चंद्रा आयंगर ने बताया कि शहर के पास अपना अलग सुरक्षा बल होगा। फोर्स वन के पहले दस्ते को प्रशिक्षण दे दिया गया है और जल्द ही वह काम करने लगेगा।

चंद्रा ने कहा कि प्रदेश के 1,600 से ज्यादा युवा पुलिसकर्मियों ने फोर्स में शामिल होने की इच्छा जताई थी और उन्हें इस्राइली और जर्मन प्रशिक्षकों ने गहन प्रशिक्षण दिया है।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने फोर्स के प्रशिक्षण के लिए गोरेगांव में जमीन उपलब्ध कराई है।

गृह विभाग, पुलिस बल, तटीय सुरक्षा और खुफिया बलों के स्तर में सुधार पर भी अपना ध्यान केंद्रित किए हुए है। चंद्रा ने कहा कि पुलिस विभाग को नए हथियार, वाहन और तकनीक उपलब्ध कराई गई है, जो उन्हें किसी भी आपात स्थिति में चौकस रखने में मदद करेगी।

किसी भी तरह की आपातकालीन जानकारी पहले स्थानीय पुलिस थाने, वहां से क्विक रेस्पांस टीम (क्यूआरटी) तक पहुंचेगी। इसके बाद फोर्स वन सुरक्षा व्यवस्था संभालेंगे। चंद्रा ने बताया कि क्यूआरटी को इस तरह से प्रशिक्षण दिया गया है कि वह किसी भी स्थान पर 20 मिनट में पहुंच सकें। उन्हें सशस्त्र वाहन और बुलेटप्रूफ जैकेट भी दिए गए हैं।


तटीय सुरक्षा के लिए सरकार ने विशेष गश्त की व्यवस्था की है, जिसके तहत हाई स्पीड नौकाएं उपलब्ध कराई गई हैं। साथ ही सूचनाएं एकत्रित करने के लिए स्थानीय मछुआरों का सागर सुरक्षा दल बनाया गया है। उन्होंने कहा कि मछुआरों को मोबाइल फोन और सिम कार्ड दिए गए हैं। उन्हें कुछ भी संदिग्ध दिखने की स्थिति में पुलिस को सूचना देने के लिए कहा गया है।

चंद्रा ने कहा कि मछुआरों को सरकार की ओर से पहचान पत्र दिए गए हैं। विभाग हमलों के एक साल बाद सुरक्षा व्यवस्था पर की गई कार्रवाइयों के संबंध में मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण को एक रिपोर्ट सौंपने वाला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुंबई की रक्षा में जल्द ही जुटेगा `फोर्स वन'