DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाघों के प्रणयकाल के दौरान प्रशासन सतर्क

विश्व भर में मशहूर बाघ अभयारण्य कार्बेट नेशनल पार्क का प्रशासन बाघों के प्रणयकाल के चलते अत्यधिक सर्तक हो गया है और पर्यटकों तथा अन्य लोगों की सुरक्षा के लिए विशेष ऐहतियात बरती जा रही है।

कार्बेट टाइगर रिजर्व के निदेशक विनोद कुमार सिंघल ने बताया कि बाघों के प्रजनन और प्रणयकाल के दौरान बाघ और बाघिन अत्यंत आक्रामक अवस्था में होते हैं। यह काल आमतौर पर अक्टूबर के मध्य से लेकर दिसंबर तक का होता है।

सिंघल ने बताया कि इन दिनों बाघों को नजदीक से देखने की थोड़ी कोशिश भी घातक साबित होती है। इसलिए इसे ध्यान में रख कर पर्यटन क्षेत्र बिजरानी धारा, झरना में पर्यटकों को ले जाने वाले वाहन चालकों तथा गाइड को विशेष रूप से सतर्क रहने को कहा गया है।

उन्होंने बताया कि वाहन चालकों से कहा गया है कि वे बाघों से अपने को काफी दूरी पर रखें और ऐसी कोई गतिविधि नहीं करें जिससे बाघों के आपसी संबंधों में कोई खलल पड़े।

सिंघल ने बताया कि विभाग के गश्ती दल ने अपने गश्त के दौरान बाघों की इस अवस्था से अधिकारियों को भी अवगत करा दिया है। निदेशक सिंघल ने बताया कि एक बाघिन सामान्यत 90 से 100 दिन का गर्भकाल पूरा कर प्रसव करती है। आम तौर पर चार बच्चों एक साथ होते हैं। पहले ये सवा दो साल तक बाघिन के साथ रहते हैं लेकिन फिर आजाद हो जाते हैं।

उन्होंने बताया कि प्रणय गतिविधि वाले क्षेत्र में पर्यटकों को रोका जा रहा है ताकि बाघों की निजी जिंदगी में कोई बाधा न पड़े क्योंकि प्रशासन का मकसद है कि बाघों की संख्या में वद्धि हो।

सिंघल ने बताया कि मुख्य रूप से किद्दार सोल, बटिया जीरो, प्वाइंट वाटर होल, मचान रोड, बिजरानी सोत जड पहाड़ तथा फूलताल क्षेत्र में बाघों की समागम गतिविधियां प्रमुखता से हो रही हैं इसलिए इन क्षेत्रों में पर्यटकों को विशेष रूप से सतर्क रहने को कहा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाघों के प्रणयकाल के दौरान प्रशासन सतर्क