DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार दिवसीय यात्रा के लिए अरुणाचल पहुंचे दलाई लामा

चार दिवसीय यात्रा के लिए अरुणाचल पहुंचे दलाई लामा

तिब्बत के धार्मिक गुरू दलाई लामा रविवार को अपनी चार दिवसीय यात्रा के लिए तवांग पहुंच गए। दलाई लामा की इस यात्रा पर चीन ने गहरी आपत्ति जताई थी।

गुवाहाटी से हेलिकॉप्टर से आए 74 वर्षीय तिब्बती धर्म गुरू का स्वागत करने के लिए हेलीपैड पर अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री दोरजी खांडू और कई अन्य मंत्री मौजूद थे।

दलाई लामा यहां 300 वर्ष पुराने तवांग मठ में रुकेंगे। यात्रा के दौरान उनकी बौद्ध समुदाय के लोगों के साथ धार्मिक चर्चाएं भी होंगी। लगभग 10,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित तवांग को दलाई लामा के स्वागत के लिए दुल्हन की तरह सजाया गया है। जगह-जगह दलाई लामा की तस्वीरों वाले पोस्टर और भारत के झंडे लगाए गए हैं। इमारतों और घरों की नए सिरे से पुताई की गई है और सड़कों को चमकाया गया है।

दलाई लामा की यात्रा को देखते हुए चीन और म्यांमार की सीमा से लगे तवांग की सुरक्षा व्यवस्था को भी मजबूत किया गया है। प्रशासन ने उनकी यात्रा को शांतिपूर्ण तरीके से पूरा कराने के लिए हरसंभव प्रयास किए हैं।

दलाई लामा की यात्रा पर आपत्ति जताते हुए चीन ने कहा था कि यह यात्रा दलाई गुट के चीन विरोधी और अलगाववादी व्यवहार का एक बार फिर खुलासा करती है। दूसरी ओर भारत का कहना था कि सम्मानित अतिथि देश में कहीं भी जाने के लिए स्वतंत्र हैं।  
दलाई लामा ने भी कहा था कि उनकी यात्रा राजनीतिक नहीं है, इसलिए चीन की आपत्ति उसके नकारात्मक रुख को प्रदर्शित करती है। बौद्ध धर्म गुरू 1959 में तवांग के रास्ते भारत आए थे। उन्होंने कस्बे की 1983, 1997 और 2003 में भी यात्रा की थी।

नोबेल पुरस्कार विजेता दलाई लामा नौ से 11 नवंबर के दौरान तवांग मठ में, 12 नवंबर को दिरांग में, 13 नवंबर को बोमदियाल में और 14 नवंबर को इटानगर में प्रवचन देंगे। दलाई लामा सेंटर फॉर बुद्धिस्ट कल्चर स्टडीज में बौद्ध धर्म से जुड़े संग्रहालय का उद्घाटन करने के साथ प्रार्थना सत्रों में भाग लेंगे साथ ही दलाई लामा यहां मठ के स्कूल के पुस्तकालय का उद्घाटन भी करेंगे।

तवांग में धर्म गुरु एक अस्पताल का भी उद्घाटन करेंगे, जिसके लिए उन्होंने 20 लाख रुपये की राशि दान की है। तवांग मठ के प्रमुख तुल्कु रिमपोचे ने कहा कि दलाई लामा का पसंदीदा भोजन बनाने के लिए खानसामों को एक महीने तक प्रशिक्षण दिया गया है।

यात्रा के दौरान बड़ी संख्या में दलाई लामा के अनुयायियों, विदेशियों, पर्यटकों और मीडियाकर्मियों की मौजूदगी को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हैं। कस्बे में 12 नवंबर तक के लिए अवकाश की घोषणा कर दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चार दिवसीय यात्रा के लिए अरुणाचल पहुंचे दलाई लामा