DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेके समूह का 125वाँ संस्थापक दिवस मनाया गया

जेके समूह का 125 वाँ संस्थापक दिवस समारोह ईमानदारी, समर्पण और कर्मठ होने का पाठ पढ़ा गया। लगातार 25, 40 और 50 वर्षो से समूह को सेवाएँ दे रहे कर्मियों और अधिकारियों को सम्मानित किया गया। वक्ताओं ने जेके समूह की मिसाल दी और बताया कैसे सीढ़ी दर सीढ़ी तरक्की कर न सिर्फ व्यापार और उद्योग जगत में बुलंदियाँ छुई जा सकती हैं बल्कि समाजिक सरोकारों का भी ख्याल रखा जा सकता है। समूह द्वारा 125 वर्षाे में शहर व समाज को उल्लेखनीय योगदान का जिक्र करती पुस्तक का विमोचन हुआ।

मुख्य अतिथि केंद्रीय कोयला राज्य मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने कहा कि ऐसा कम देखने में आता है पर यह न सिर्फ औद्योगिक और व्यापारिक समूह के लिए बल्कि हर व्यक्ति के लिए मिसाल है। जेके समूह शहर की पहचान बन चुका है। जिस समय इस समूह ने शहर में पैर रखे उस दौर में शहर और प्रदेश में औद्योगिक वातावरण नहीं था। व्यापारिक और आद्योगिक वातावरण न होने पर भी  समूह लगातार आगे बढ़ता रहा। समूह ने उपलब्धियों के साथ ही स्वतंत्रता संग्राम महायज्ञ में आहुतियाँ दीं।

कमला रिट्रीट में बैठा हर शख्स गदगद था। स्वदेशी उद्योगों के सूत्रधार जेके उद्योग समूह के संस्थापक लाला कमलापत सिंहानिया का 125 वाँ जन्म दिवस एवं स्मृति समारोह में श्रद्धांजलि दी। समूह की तीन पीढ़ियों के साथ कार्यरत डॉ.केबी अग्रवाल ने अतिथियों का अभिनंदन किया। मर्चेट चैंबर के निवर्तमान अध्यक्ष लक्ष्मी नारायण अग्रवाल, गोविंद हरि सिंहानिया, यदुपति सिंहानिया ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए।

82 वर्षीय समाजसेवी डॉ.शम्भूनाथ टण्डन ने संस्मरण सुना यादें ताजा कीं। उन्होंने उद्योग जगत के अलावा महात्मा गांधी के स्वदेशी आंदोलन और स्वतंत्रता संग्राम में भी खासा योगदान दिया। एके सरावगी, संजय दुबे, अशोक रस्तोगी, राजीव भाटिया आद मौजूद थे। ज्योति बाजपेई ने धन्यवाद दिया, संचालन सीके अरोड़ा ने किया। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जेके समूह का 125वाँ संस्थापक दिवस मनाया गया