DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

35 वां राष्ट्रीय पुस्तक मेला पटना में शुरू

किताबों की अनोखी व निराली दुनिया गांधी मैदान में शनिवार से सज गयीं। देश के प्रसिद्ध 200 प्रकाशक मेले में अपनी हजारों पुस्तकें लेकर पहुंचे हैं।


मानव संसाधन विकास विभाग के प्रधान सचिव अंजनी कुमार सिंह ने नेशनल बुक ट्रस्ट के इस 35 वें राष्ट्रीय पुस्तक मेले का उद्घाटन किया। उन्होंने इस मौके पर कहा कि सभी शैक्षणिक संस्थानों को इस मेले में पुस्तकों की खरीद करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने आयोजकों से अगले साल इस मेले में बाल पुस्तक मेले की तरह किड्स जोन भी रखने का आग्रह किया। उन्होंने आशा जतायी कि हर बार की तरह इस बार भी पुस्तकों की खूब बिक्री होगी। 11 व 12 नवंबर को बगल में ही शिक्षा मेला लगेगा जिसमें हजारों की तादाद में स्कूली बच्चाे, शिक्षक शिरकत करेंगे जिससे पुस्तक मेले में भी बिक्री बढ़ेगी।


इसके पूर्व एनबीटी की निदेशक नुज्जत हसन ने मेले में आए अतिथियों व प्रकाशकों का खैरमकदम करते हुए कहा कि हर दिन मेले में साहित्यिक गतिविधियां होंगी। प्रसिद्ध आलोचक डा. नामवर सिंह 12 नवंबर को, काटरूनिस्ट आबिद सुरती 14 नवंबर को, विभूति नारायण राय 8 नवंबर को, प्रसिद्ध लेखिका मैत्रेयी पुष्पा 9 नवंबर को मेले में दर्शकों से मुखातिब हो अपनी बात कहेंगे व पाठकों से सीधी बात करेंगे। साथ ही मायानंद मिश्र, विश्वरंजन, अब्दुस समद भी पाठकों से रू-ब-रू होंगे। साथ ही दलित विमर्श, स्त्री विमर्श व युवा लेखन की प्रासंगिकता पर गोष्ठी भी होगी। उन्होंने कहा कि स्थानीय संस्थाओं व प्रकाशकों को मंच खाली रहने पर साहित्यिक व सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए नि:शुल्क मंच दिया जाएगा। मेले में 250 स्टॉल लगाए गए हैं। पिछली बार के मुकाबले इस बार मेले में अधिक स्टॉल लगे हैं। संचालन एनबीटी के संपादक डा. कमाल अहमद ने किया व धन्यवाद ज्ञापन विजयपाल ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:35 वां राष्ट्रीय पुस्तक मेला पटना में शुरू