DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहले चरण के लिए बिछने लगीं बिसातें

झारखंड विधानसभा के लिए चुनावी बिसातें बिछने लगीं हैं। राजनीतिक दलों की सेना सजने लगी हैं। अब प्रचार युद्ध तेज होगा। पहले चरण की 30 सीटों पर 25 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। नामांकन का काम शनिवार को निपट गया। अगले तीन दिनों के अंदर परचों की जांच और नाम वापसी की औपचारिकताएं भी निपट जाएंगी। संथालपरगना प्रमंडल की 18, कोल्हान और रांची की तीन-तीन तथा हजारीबाग प्रमंडल की छह सीटों के लिए होनेवाले चुनाव में भाजपा, झामुमो, कांग्रेस और उसके नए साथी झारखंड विकास मोर्चा के बीच ही मुख्य रूप से मुकाबला होगा। उम्मीदवारों के चेहरे सामने हैं। हिन्दुस्तान ने पहले चरण में संभावित चुनावी परिदृश्य के प्रारंभिक आकलन किए हैं। परिस्थितियां आगे बदल भी सकती हैं।  प्रमंडलवार तसवीर कुछ इस तरह बनती दिखती है।


संथालपरगना : भाजपा और झामुमो का गढ़ माना जाता रहा है। कांग्रेस भी यहां से अच्छी उपस्थिति दर्ज कराती रही है। झामुमो के शिबू सोरेन और बाबूलाल मरांडी का राजनीतिक प्रभाव क्षेत्र रहा है। बाबूलाल ने पिछली बार भाजपा को खासी बढ़त दिलायी थी। 18 में आठ सीटें भाजपा-जदयू को मिली थीं। छह झामुमो और दो सीट कांग्रेस के खाते में गईं थीं। इस बार भाजपा का दामन छोड़ बाबूलाल कांग्रेस के साथ हैं। भाजपा को बगैर बाबूलाल के संथाल में अपनी पकड़ मजबूत बनानी है। कांग्रेस और बाबूलाल मरांडी की जोड़ी से भाजपा और झामुमो दोनों को निपटना है। 
कोल्हान : कोल्हान प्रमंडल की पूर्वी और पश्चिमी जमशेदपुर सीट पर भाजपा के सामने झामुमो और कांग्रेस-झाविमो की जोड़ी होगी। भाजपा को अपने प्रतिद्वंद्वियों से निपटकर सीटें बचानी हैं। जुगसलाई झामुमो के खाते में है। यहां झामुमो के सामने भाजपा और कांग्रेस भी होगी। झामुमो को सीट बचानी की जद्दोजहद करनी है।


उत्तरी छोटानागपुर - प्रमंडल के सिंदरी, निरसा, धनबाद, झरिया, टुंडी और बाघमारा में भाजपा-जदयू के सामने झामुमो और कांग्रेस -झाविमो होगा। सभी दलों के उम्मीदवार दमदार हैं। भाजपा-जदयू को अपनी सीटें बचाने के साथ इसे बढ़ाने की भी कड़ी चुनौती है। कांग्रेस और झामुमो अपनी-अपनी सीटें बढ़ाने की जुगत में पूरी ताकत झोंकने की तैयारी कर रहा है।


दक्षिणी छोटानागपुर  - प्रमंडल के रांची, हटिया और कांके विधानसभा में वोट पड़ेंगे। रांची और कांके भाजपा के पास हैं, हटिया कांग्रेस के खाते में है। भाजपा के पुराने चेहरे ही  मैदान में हैं। कांग्रेस ने रांची से एक नया चेहरा दिया है। कांग्रेस, झामुमो और राजद के साथ छोटे दल भी इन तीनों सीटों में ताकत झोंकने की तैयारी में हैं। उनके सामने भाजपा को हराने की चुनौती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहले चरण के लिए बिछने लगीं बिसातें