DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उपचुनाव में सत्ता के दुरुपयोग का खुला प्रदर्शन हुआ: सपा

समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया है कि मुख्यमंत्री के इशारे पर उपचुनाव में बहुजन समाज पार्टी ने खुली गुण्डई और सत्ता का दुरुपयोग करके मतदान को प्रभावित किया। कई स्थानों पर बूथ कैप्चरिंग की गई। चुनाव आचार संहिता की धज्जियाँ उड़ाई गईं और स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव का बुरी तरह मजाक बनाया गया। प्रशासन सत्तापक्ष के साथ ही खड़ा रहा। बसपा के मंत्री और विधायक मनमानी करते रहे। सपा ने इसौली और रारी के कई बूथों पर पुनर्मतदान की माँग की है। 

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने यहाँ जारी बयान में आरोप लगाया कि सुलतानपुर जिले के इसौली विधानसभा क्षेत्र में प्रशासनिक मशीनरी ने सत्तारूढ़ दल का साथ दिया। बसपा के स्थानीय विधायक यहाँ अपराधियों के साथ मिलकर बूथ कब्जा करते रहे। विधायक अजय सिंह और राजेन्द्र कुमार आदि ने बूथ संख्या 125, 126, 135,136, 137, 186, 187, 200 से 206 तक कब्जा कर लिया और फर्जी मतदान कराया।

रारी में बसपा सांसद धनंजय सिंह ने 50 से ज्यादा बूथों पर कब्जा किया। यहाँ सपा के जिलाध्यक्ष तथा पूर्व सांसद पारसनाथ यादव को पुलिस ने घर से बाहर नहीं निकलने दिया। पुवांया, भरथना, इटावा और हैसरबाजार में भी बूथ कब्जा हुआ। भरथना में अपराधी गीतम सिंह दहशत फैलाता रहा।

पुलिस ने उसे छूट दे रखी थी। उधर, इसौली से सपा के प्रत्याशी मणिभद्र सिंह ने बूथ संख्या 128 रामनगर, 194 माधवपुर, 202 मायंग, 193 भटकौरी, 196 गौराबरन तथा 227 सरैया मझौवा के मतदान को निरस्त करके पुन: मतदान कराए जाने की माँग की है। श्री सिंह का कहना है कि प्रशासन इन मतदान केन्द्रों पर  बूथकैप्चरिंग रोकने में विफल रहा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उपचुनाव में सत्ता के दुरुपयोग का खुला प्रदर्शन हुआ: सपा