DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खत्म हो जाएंगी बीएड की सात हजार सीटें

अगले सत्र से सीसीएसयू के बीएड कॉलेजों में अतिरिक्ट इंटेक की सात हजार सीटें खत्म हो जाएंगी। बिना नॉक के कॉलेजों को अतिरिक्त सीटों की मान्यता अब नहीं मिलेगी। वर्तमान स्थिति में विवि के बीएड कॉलेज नॉक ग्रेडिंग नहीं हैं। जिन कॉलेजों ने नॉक कराया है, वहां पर अतिरिक्त सीटें नहीं हैं। ऐसे में बीएड कॉलेजों की सात हजार अतिरिक्त सीटें खत्म होना तय है।

एनसीटीई ने बीएड कॉलेजों में गुणवत्ता बढ़ाने के लिए सख्ती करना शुरू कर दिया है। शासन के तीन महीने में नॉक निरीक्षण कराने के आदेशों को भले ही अमलीजामा पहनाने पर सवाल उठ रहे हों, लेकिन एनसीटीई की बाध्यता से 50 कॉलेजों की अतिरिक्त सीटें खतरे में पड़ गई हैं। सत्र 2010-11 से इन बीएड कॉलेजों की अतिरिक्त सीटें स्वत: समाप्त हो जाएंगी।

एनसीटीई ने बीएड में नॉक ग्रेडिंग कॉलेजों को ही अतिरिक्त सीटों की मान्यता देने का फैसला लिया है। इस निर्णय से सीसीएसयू के करीब 215 बीएड कॉलेजों में सात हजार अतिरिक्त सीटें अगले सत्र से खत्म हो जाएंगी। विवि के बीएड कॉलेजों में इस वक्त नॉक ग्रेडिंग नहीं है। केवल सरकारी बीएड कॉलेजों ने नॉक निरीक्षण कराया हुआ है, लेकिन इनके पास अतिरिक्त सीटें नहीं हैं।

इस स्थिति में कॉलेजों के बाद मान्यता के वक्त मिलने वाली इंटेक ही रह जाएंगी। कॉलेजों को बीएड के लिए सौ सीटों का इंटेक है। एनसीटीई के निर्णय से अतिरिक्त सीटें पाए बीएड कॉलेज मुश्किल में फंस गए हैं। विवि में कई बीएड कॉलेजों के पास इस वक्त इंटेक के अतिरिक्त चार-चार सौ अतिरिक्त सीटें हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खत्म हो जाएंगी बीएड की सात हजार सीटें