DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जीटीबी अस्पताल में हुआ हंगामा

गुरु तेग बहादुर अस्पताल के डेंगू वार्ड में लगातार संदिग्ध डेंगू मरीजों की संख्या को लेकर शुक्रवार रात मरीजों व तिमारदारों के बीच जमकर हंगामा और वाकयुद्ध हुआ। बिस्तरों की कमी और एक बिस्तर पर तीन-तीन चार-चार मरीज पहले से ही है रात को करीब 35 नए मरीज और आ गए। उनके लिए बिस्तर नहीं थे तो वार्ड ब्याय व नर्सो ने नए मरीजों को पुराने मरीजों के साथ बिस्तर पर लिटा दिया।


अस्पताल की सातवीं मंजिल पर वार्ड नंबर 17 में डेंगू मरीजों के लिए अलग से इंतजाम है। लेकिन यहां पहले से सैकड़ों मरीज डेंगू के भर्ती हैं। रात करीब 11 बजे से लेकर डेढ़ बजे तक डेंगू के संदिग्ध मरीजों के आने का सिलसिला शुरु हो गया। इसी वार्ड में भर्ती डेंगू के मरीज शशांक के पिता अनिरुद्ध ने बताया कि रात को जो मरीज आए वहां उनके लिए बिस्तर नहीं थे। जबकि वार्ड ब्याय उन्हें जबरदस्ती वहां लिटा रहे थे। इसे लेकर मरीज व उनके बीच तनातनी हो गई। जिस बिस्तर पर उनका बेटा था उस और भी मरीज थे। उनके मना करने पर अस्पताल कर्मचारी व मरीज उनसे लड़ने लगे।


सलीम ने बताया कि बिस्तर न होने की वजह से नए मरीजों को गैलरी में ही लेटना पड़ा तो कुछ को अन्य वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। बिस्तरों की संख्या कम होने की वजह से रात को मारपीट की नौबत आ गई। दूसरी तरफ डेंगू मरीजों को ब्लड बैंक से ब्लड मिलने में भी परेशानी आ रही है। मरीजों के साथ ब्लड डोनर के पास पहचान पत्र न होने की वजह से उन्हें ब्लड नहीं दिया जा रहा है। जिस मरीज का तिमारदार यूपी बुलंदशहर से आया है वह पहचान पत्र रात को कहां से लाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डेंगू के मरीज, जीटीबी अस्पताल में हुआ हंगामा