DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राणा के घर से मिले अलकायदा के भड़काऊ वीडियो

राणा के घर से मिले अलकायदा के भड़काऊ वीडियो

आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा द्वारा भारतीय प्रतिष्ठानों पर हमले के लिए बनाई गई योजना के खुलासे में एक नया मोड़ आ गया है। दरअसल अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई ने पाकिस्तान में पैदा हुए और पिछले महीने गिरफ्तार किए गए कनाडाई नागरिक तहव्वुर हुसैन राणा के घर से अलकायदा के दो भड़काऊ वीडियो बरामद किए हैं।

राणा के घर से बरामद किए गए वीडियो में अल कायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन ओर अन्य आंतकवादियों के भड़काऊ भाषण हैं। अलकायदा के मीडिया विंग अस सहाब मीडिया की ओर से निर्मित दोनों वीडियो में से एक बॉम्बिंग ऑफ डेनमार्क एंबेसी के नाम से है। इसे 48 साल के राणा के बेडरूम से बरामद किया गया। गौरतलब है कि राणा तकरीबन पिछले दस साल से शिकागो में रह रहा है।

राणा को पिछले महीने एफबीआई ने 49 साल के डेविड कोलमैन हेडली के साथ अलकायदा की शह पर दिल्ली के नेशनल डिफेंस कॉलेज, देहरादून के दून स्कूल और मसूरी के वुडस्टॉक पर हमले की योजना बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

कई दफा पाकिस्तान जा चुके और लश्कर-ए-तैयबा के सदस्यों से नियमित तौर पर संपर्क में रहने वाले हेडली से पूछताछ के लिए अभी भारतीय अधिकारी अमेरिका में हैं। संघीय वकीलों की ओर से अदालत में शुक्रवार को दायर किए गए हलफनामे में जज नैन आर नोलन को भी बरामद किए गए वीडियो के बारे में जानकारी दी गई।

डेनमार्क से जुड़ा वीडियो 54 मिनट लंबा है। गौरतलब है कि डेनमार्क के ही एक अखबार ने पैगम्बर मुहम्मद के कार्टून प्रकाशित किए थे।
 
संघीय वकीलों का कहना है कि वीडियो एक डीवीडी में सहेज कर रखे गए थे और इन्हें पिछले 18 अक्टूबर को राणा के बेडरूम से बरामद किया गया। अदालत में दायर किए गए नए हलफनामे में कहा गया है कि बरामद किया गया वीडियो अलकायदा प्रवक्ता अबु यहया अल लीबी द्वारा पढ़ा गया है। बताया जाता है कि लीबी अफगानिस्तान में अमेरिकी कैद से भाग निकला था।

वीडियो में अलकायदा का तीसरा सबसे बड़ा नेता माना जाने वाला मुस्तफा अबु अल यजीद भी नजर आया है। हलफनामे के मुताबिक वीडियो में इस्लामाबाद स्थित डेनिश दूतावास पर दो जून, 2008 को हुए फिदायीन हमले में शामिल शख्स को भी दिखाया गया है।

बरामद किए गए दूसरे वीडियो के बारे में हलफनामे में कहा गया है कि वीडियो की शुरूआत ओसामा बिन लादेन के भाषण से हुई है। इस वीडियो में चार लोगों के पूरे प्रोफाइल को भी दिखाया गया है जिनके बारे में कहा गया है कि वे इस्लाम की ओर से लड़ाई लड़ने के क्रम में मारे गए हैं।
      
हलफनामे में कहा गया है कि वीडियो में मुस्तफा अबु अल यजीद की टिप्पणियां भी शामिल हैं, जो डेनमार्क वीडियो में भी दिखता है। गिरफ्तारी के बाद के अपने बयान में राणा ने अन्य चीजों के अलावा यह भी कबूल किया कि वह और हेडली डेनमार्क के अखबार में प्रकाशित पैगंबर साहिब के कार्टून से बेहद परेशान थे।

हलफनामा में कहा गया है कि सात सितंबर 2009 को हेडली और राणा ने हमलों के जिन लक्ष्यों की चर्चा की उनमें डेनमार्क भी शामिल था। राणा ने शुक्रवार को अदालत के समक्ष जमानत की एक ताजा याचिका दाखिल की, जिसमें दलील दिया गया है कि किसी अखबार पर हमला आतंकवाद के अपराध को बढ़ावा देने में संलिप्तता नहीं माना जा सकता।
    
राणा ने अपनी रिहाई के लिए 10 लाख डॉलर की जमानत राशि का प्रस्ताव किया है। इसमें शिकागो का वह मकान शामिल है जहां वह और उसका परिवार रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राणा के घर से मिले अलकायदा के भड़काऊ वीडियो