DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो नए पावर प्लांटों की सौगात

दिल्ली नगर निगम 3200 मीट्रिक टन ठोस कूड़े से 28 मेगावाट बिजली उत्पन्न करेगा। निगम निजी क्षेत्र के साथ मिलकर दो महत्वाकांक्षी योजनाओं पर  काम कर रहा है। एक योजना के अंतर्गत 2000 मीट्रिक टन ठोस कूड़े का शोधन करके 16 मेगावाट जबकि दूसरी योजना के अंतर्गत 1200 मीट्रिक टन कूड़े से 12 मेगावाट ऊर्जा का सृजन करेगा।

स्थानीय पर्यावरण पहल के लिए अंतरराष्ट्रीय परिषद की दक्षिण एशियाई क्षेत्र की दिल्ली में हुई बैठक में दिल्ली के महापौर डा. कंवर सेन ने कहा कि आज जलवायु परिवर्तन के बदलते परिप्रेक्ष्य में हमें ऊर्जा संरक्षण के लिए कुशल होने के वास्ते सस्ते, अधिक ऊर्जा प्रयोग में लेने वाले उपकरणों को छोड़ना होगा। हमें ऐसे उपकरण अपनाने होंगे जिसमें ऊर्जा की कम खपत होती है और वे ऊर्जा को संरक्षित करते हों।

महापौर ने कहा कि दिल्ली चाहे विश्व की उन राजधानी शहरों में से एक है जो कि काफी हरी-भरी है फिर भी इसे शहरीकरण की प्रदूषण, यातायात में रुकावट एवं संसाधनों की कमी जैसी समस्याओं से जूझना पड़ता है। निगम 1.37 करोड़ की जनसंख्या की नागरिक सुविधाएं उपलब्ध कराने में कार्यरत है। दिल्ली के सामने बढ़ती हुई जनसंख्या के साथ-साथ बढ़ते हुए ठोस कूड़े के प्रबंधन एवं लगभग 45 लाख वाहनों द्वारा उत्पन्न धुएं को नियंत्रित व व्यवस्थित करने की बड़ी चुनौती है। शहर के ठोस कूड़े के प्रबंधन के लिए ही निगम दो महत्वपूर्ण योजनाओं पर काम कर रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो नए पावर प्लांटों की सौगात