DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संडे इज हॉलीडे

‘संडे इस हॉलीडे’ का वाक्य अंग्रेजी न पढ़ा व्यक्ति भी समझता है। संडे को वह होता है, जो छह दिनों में नहीं होता। दफ्तर जाने वाला नौकरी पेशा व्यक्ति देर से जागता है। नहाए या न नहाए संडे के मजे खूब लेता है। आजाद देश के गुलाम यानी नौकरीपेशा के लिए ‘संडे’ स्वाधीनता-दिवस का दर्जा रखता है। कई घरों में कुशल दक्ष आज्ञाकारी आदर्श पति, पत्नी को रसोई घर से छुट्टी दे देते हैं। पत्नी भी इस अदा पर फिदा, क्या प्यार लुटाती है कि ढलती उम्र भी मात। संडे को नौजवान पति-पत्नी ढेर सारे कपड़े खेल ही खेल में धो डालते हैं। दादा-नाना वर्ग के सज्जन पोते-पोती, नवासे-नवासी को पार्क में घुमाते, स्टेडियम में खेल खिलाते, आइस्क्रीम, टॉफी, चाट खिलाते और लौटते समय जलेबी गरम और जाड़ी डंठल सेब साथ में लाना नहीं भूलते। संडे को भी बिजली और टेलिफोन के जमा काउंटर चालू होते हैं। इसलिए संडे का लाभ लेते यह महत्वपूर्ण कार्य निबटाते हैं। व्यापार जगत बंद रहने से कार पर सवार रिश्तेदारों के दीदार का पुण्य लाभ लेते हैं। लोग धार्मिक आयोजनों का आत्मिक आनंद लेते हैं। संडे को प्राय: अंतिम यात्रा के संजोग सधते हैं। इस तरह सामाजिकता का संदेश संडे के संग अवश्य रहता है। संडे को नौजवान क्रिकेट के डंडे गाड़ते-उखाड़ते दिखते हैं। कई आउटिंग करते हैं। जंगल में मंगल होता है। अक्सर संडे को वन डे क्रिकेट होता है तब टीवी पर शौकीन नज़रें गड़ाए रहते हैं। अम्मा-दादी छत पर बड़ी, पापड़, चिप्स धूप में सुखाती रहती हैं। संडे को पिक्चर हाउस फुल रहते हैं।

अब मैं जरा असली औकात पर आता हूं। लेखक वर्ग, जिनमें से मैं भी एक हूं, इस दिन चर्चा, परिचर्चा, गोष्ठी, काव्यपाठ, कवि सम्मेलन, विमोचन, समीक्षा, भजन-सत्संग, प्रवचन, सम्मान, निंदा प्रस्ताव, कार्यक्रम अटेंड करते रहते हैं। संडे को मेरे जैसे कागज के दुश्मन सारे पेपर पढ़, देख, सुनकर एक आधा दस्ता कागज काला अवश्य करता है। काले पन्ने न करेंगे तो अगले संडे को नाक उजला न रहेगा। घर से दूर रचना कर्म साधना की भांति की जाती है। जो ऐसा नहीं करते, वे साहित्य की भूल भुलैया में खो जाते हैं। इस तरह संडे महातम्य कथा पूर्ण होती है। संडे की इस कथा महिमा में अगर कुछ प्रसंग आने से छूट भी गए हों तो आप पृथक से पुनश्च करके जोड़ सकते हैं। टीनोपॉल से धुले कपड़ों से लेकर रगड़-रगड़ कर साफ किए गए बरामदे तक शाइनिंग संडे क्या-क्या नहीं चमकता। ‘सनी डे’ तो अशा उल्लास उत्साह भरा होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संडे इज हॉलीडे