अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदलेंगे चुनाव में वोट के समीकरण

महाराजगंज संसदीय क्षेत्र के नये परिसीमन में क्षेत्रों के कटने और जुड़ने से आबादी के जातिगत समीकरणों में कुछ बदलाव आया है। प्रखंड स्तर पर कुछ क्षेत्र निकले हैं तो कुछ क्षेत्र जुड़े हैं। गोरयाकोठी विधानसभा सीट को महाराजगंज में शामिल किया गया है। मशरक के स्थान पर एकमा नया विधानसभा क्षेत्र बना है। हालांकि यहां कोई सुरक्षित क्षेत्र नहीं है। एकमा के मदन साह कहते हैं कि महाराजगंज से हमें जोड़ दिया गया है। मशरक क्षेत्र के मिट जाने के बाद चुनाव में वोट के समीकरण भी बदलेंगे।। परिसीमन के असर को दुरौंदा प्रखंड के लोग भी स्वीकारते हैं। यह प्रखंड पहले महाराजगंज के क्षेत्रान्तर्गत था। अब यह सीवान संसदीय सीट का हिस्सा है। हालांकि इसे लोग सकारात्मक बताते हैं। दुरौंदा सीवान जिले का प्रखंड है। उत्तम पांडेय कहते हैं कि हम निवासी सीवान के हैं और मतदाता महाराजगंज सीट के थे। सीवान से जुड़ जाने से हमें काफी सहूलियत होगी। राजवीर सिंह कहते हैं कि परिसीमन का ज्यादा असर हमार ऊपर नहीं पड़ेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बदलेंगे चुनाव में वोट के समीकरण