DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने बयान से पलटे शिवराज

अपने बयान से पलटे शिवराज

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का दावा है कि उन्होंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया, जो प्रदेश में नौकरी-रोजगार दिए जाने के संबंध में प्रांतीय आधार पर भेदभाव की पैरवी करता हो।

उन्होंने हालांकि माना कि वह प्रदेश में नया उद्योग लगने पर उसमें स्थानीय लोगों को पचास फीसीद रोजगार दिए जाने के पक्षधर हैं। चौहान ने एक कार्यक्रम के दौरान संवाददाताओं से कहा कि भारत के हर नागरिक का मध्यप्रदेश में स्वागत है। मैं हर उस बात का विरोधी हूं, जो किसी तरह के विभेद को जन्म देती हो।

शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में रोजगार के सिलसिले में प्रांतीय आधार पर भेदभाव का कोई सवाल ही नहीं उठता। मैंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया, जो नौकरी-रोजगार में किसी भेदभाव की वकालत करता हो। मुख्यमंत्री ने हालांकि कहा कि मैं प्रदेश में किसी जगह नया कल-कारखाना लगने पर इसमें पचास प्रतिशत रोजगार स्थानीय लोगों को दिए जाने के पक्ष में हूं। नए उद्योग स्थानीय लोगों की जमीन पर लगते हैं। लिहाजा विकास का फायदा उन्हें भी मिलना चाहिए।

शिवराज ने कहा कि स्थानीय लोग अगर किसी नए उद्योग की नौकरी के पैमानों पर खरे नहीं उतरते हैं तो उन्हें प्रशिक्षित करके नौकरी के योग्य बनाया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने बयान से पलटे शिवराज