DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उम्मीदें बड़ी, मगर कामयाबी छोटी

उम्मीदें बड़ी, मगर कामयाबी छोटी

अक्तूबर माह की शुरुआत ‘डू नॉट डिस्टर्ब’ फिल्म की रिलीज से हुई। फिल्म के साथ वाशु भगनानी, डेविड धवन और गोविंदा जैसे बड़े नाम जुड़े थे, लेकिन बॉक्स-ऑफिस पर इससे चूं-चूं का मुरब्बा ही निकला। डेविड और गोविंदा की पिछली हिट फिल्मों के मुकाबले बेहद कमजोर रही इस फिल्म ने पहले सप्ताह में प्रति सिनेमा जहां सिर्फ 1 लाख 81 हजार रुपए की औसत कमाई की, वहीं दूसरे हफ्ते में यह आंकड़ा 74 हजार और तीसरे में महज 17 हजार रुपए तक आ गया। पहले सप्ताह में इसने दिल्ली में 30 फीसदी, कानपुर में 31 फीसदी, गोरखपुर में 29, इलाहाबाद में 28, लखनऊ  में 32, नागपुर में 24 फीसदी बिजनेस किया। इसी के साथ सिनेमाघरों में रिलीज हुई ‘वेकअप सिड’ फिल्म शहरी युवाओं को तो अपनी ओर खींचने में सफल रही, लेकिन सिंगल विंडो पर कोई खास कमाल नहीं दिखा पाई। पहले हफ्ते में इसने दिल्ली में 52, मुंबई में 60, अलीगढ़ में 26, लखनऊ में 35 प्रतिशत कारोबार किया। प्रति प्रिंट औसत कलेक्शन पहले सप्ताह में 3 लाख 84 हजार रुपए, दूसरे में 2 लाख 58 हजार  रुपए तो तीसरे में 96 हजार रुपए रहने से यह फिल्म बड़ी आसानी से सेमी-हिट के दायरे में गिनी जा सकती है।

अक्तूबर का दूसरा शुक्रवार दीवाली से पूर्व का था, जो फिल्मी कारोबार के नजरिए से कमजोर माना जाता है। इस दिन रिलीज हुई ‘एसिड फैक्ट्री’ एक कमजोर थ्रिलर निकली, जिसे दर्शकों ने नकार दिया। पहले हफ्ते में ही यह फिल्म हर सिनेमाघर से कोई 77 हजार रुपए ही बटोर पाई। मुंबई में 15, दिल्ली में तो शर्मनाक हद तक 6, बरेली, इलाहाबाद और मुरादाबाद में 11, कानपुर में 14 प्रतिशत दर्शक ही इस फिल्म को पहले सप्ताह में देखने आए। इसके साथ आई ‘3 नाइट्स 4 डेज’ ने तो सिनेमाघरों में पानी भी नहीं मांगा।

दीवाली वाले हफ्ते में तीन बड़ी फिल्में रिलीज हुईं। इनमें अजय देवगन, संजय दत्त स्टारर ‘ऑल द बेस्ट’ अपने कॉमिक पंचों के दम पर पारिवारिक और आम दर्शक वर्ग की तारीफ पा गई। थोड़ी धीमी शुरुआत के बावजूद यह चलती रही और बड़े मजे से हिट का खिताब ले उड़ी। इसकी पहले हफ्ते की प्रति थिएटर आमदनी 3 लाख 71 हजार रुपए रही तो वहीं दूसरे हफ्ते में भी यह 2 लाख 51 हजार रुपए पर टिकी रही। वहीं इसके साथ आई अक्षय कुमार की ‘ब्लू’ की शुरुआत तो जोरदार रही और यह पहले सप्ताह में प्रति सिनेमा 5 लाख 10 हजार रुपए औसतन बटोर गई, लेकिन दूसरे हफ्ते में यह आंकड़ा गिरकर 1 लाख 75 हजार रुपए पर पहुंच गया। इस हफ्ते की तीसरी फिल्म ‘मैं और मिसेज खन्ना’ में सलमान खान, करीना कपूर की मौजूदगी से भी कोई फर्क नहीं पड़ा और पहले सप्ताह में इसने महज 1 लाख 66 हजार रुपए ही हर थिएटर से बटोरे। इससे अगले हफ्ते तो यह फिगर 33 हजार रुपए तक गिर गई ।

चौथे सप्ताह कुछ छोटी फिल्में आईं। इनमें से ‘फ्रूट एंड नट’ ने पहले सप्ताह केवल 20 हजार रुपए ही बटोरे। वहीं एनिमेशन फिल्म ‘बाल गणोश 2’ भी इतना ही खींच पाई। ‘लव का तड़का’ तो इससे भी गई-गुजरी निकली। अक्तूबर ने पांचवां शुक्रवार भी देखा। इस रोज रिलीज हुई फिल्मों में से ‘अलादीन’ काफी खराब और ‘लंदन ड्रीम्स’ औसत रही।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:उम्मीदें बड़ी, मगर कामयाबी छोटी