DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

येदियुरप्पा का समझौता फार्मुला, संकट थमने के आसार नहीं

येदियुरप्पा का समझौता फार्मुला, संकट थमने के आसार नहीं

केंद्रीय नेतृत्व और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के कुछ नर्म पड़ने के बावजूद भाजपा की कर्नाटक इकाई का संकट थमने का नाम नहीं ले रहा है जबकि मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को एक समझौता फार्मूला का संकेत दिया जिसके तहत वे राज्य सरकार का गतिरोध दूर करने के लिए कुछ मंत्रियों को हटा सकते हैं और कुछ अधिकारियों का तबादला कर सकते हैं।

ताजा घटनाक्रम में येदियुरप्पा पर दबाव बढ़ाने के लिए कर्नाटक भाजपा के 52 असंतुष्ट विधायकों ने इन दिनों दिल्ली में मौजूद अपने नेता जनार्दन रेडडी को अपने इस्तीफे सौंप दिए हैं।

उधर येदियुरप्पा ने मॉर्निंग वाक के दौरान संवाददाताओं को बताया कोई भी महत्वपूर्ण मुद्दा हो, हमारा शीर्ष नेतृत्व मुझे जो आदेश देगा, उसका मैं पालन करूंगा। मैं पहले ही सहमति जता चुका हूं।

उनसे पूछा गया था कि क्या वह रेडडी बंधुओं (पर्यटन मंत्री जनार्दन रेड्डी और राजस्व मंत्री करूणाकर रेड्डी) की मांग के मुताबिक कुछ मंत्रियों को हटाने और कुछ प्रशासनिक अधिकारियों का तबादला करने के लिए तैयार हैं।

बताया जाता है कि असंतुष्टों की अगुवाई कर रहे रेड्डी बंधु समझौता फार्मूला के तहत कर्नाटक की ग्रामीण विकास मंत्री शोभा करांदलाजे सहित कम से कम पांच मंत्रियों को हटाने और राज्य का गृह मंत्रालय अपने समर्थक को सौंपने की मांग कर रहे हैं।

सूत्रों ने बताया कि येदियुरप्पा अपने मंत्रिमंडल में कुछ फेरबदल करने को तैयार हैं लेकिन गृह मंत्रालय रेड्डी बंधुओं के समर्थकों को सौंपने के लिए राजी नहीं हैं। बहरहाल, येदियुरप्पा ने नेतृत्व परिवर्तन से इंकार किया।

बताया जाता है कि समझौता फार्मूले के अंतर्गत, मुख्यमंत्री की करीबी समझी जाने वाली ग्रामीण विकास मंत्री शोभा करांदलाजे को हटाया जा सकता है और विधानसभा अध्यक्ष जगदीश शेत्तार को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। फार्मूले के तहत ही मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी एस बालिगर को मुख्यमंत्री कार्यालय से हटाया जा सकता है।

येदियुरप्पा ने विश्वास जताया कि राज्य के नेताओं के साथ केंद्रीय नेतृत्व की बैठक होने के बाद शाम तक संकट समाप्त हो सकता है। समझौते को लेकर विलंब के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा राजनीति में ऐसा हो जाता है।

यह पूछे जाने पर कि क्या मुख्यमंत्री रेड्डी बंधुओं के साथ काम करेंगे, येदियुरप्पा ने कहा समझौता होने के बाद पुरानी बातों को भूल जाना चाहिए और मिलजुल कर काम करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:येदियुरप्पा का समझौता फार्मुला, संकट थमने के आसार नहीं