DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डयूटी से गायब चल रहे 41 सफाईकर्मी सस्पेंड

बेरोजगारी के बचने को कितने ही पढ़े-लिखे नौजवान गांव-गांव सरकारी सफाईकर्मी तो बन गए, मगर अब काम करने में बेइज्जती महसूस कर रहे हैं। ये लोग डयूटी नहीं कर रहे, सिर्फ तनख्वाह लेने आ रहे हैं। गाजियाबाद प्रशासन ने डयूटी से लगातार गायब मिले, ऐसे 41 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। अब उन्हें बर्खास्त भी किया जा रहा है।

शहरों की तरह ग्रामों की सफाई व्यवस्था भी दुरुस्त करने के लिए शासन ने पिछले साल प्रदेश में हजारों सफाई कर्मचारियों की भर्ती की थी। चतुर्थ श्रेणी के इन पदों के लिए लाखों नौजवान लाइन में लगे थे। इनमें बेरोजगारी से परेशान सवर्ण तबके के नौजवान भी पीछे नहीं रहे थे। एमए और एमएससी कर चुके लोग भी सफाई कर्मचारी की नौकरी करने की लाइन में थे। कितने ही ऐसे पढ़े-लिखे नौजवान नौकरी पा भी गए।

अफसरों के मुताबिक, गाजियाबाद जिले में उस समय 601 सफाई कर्मचारियों की भर्तियां हुई थीं। शुरू से शिकायतें मिलने लगीं कि सरकारी सफाईकर्मी सफाई करने नहीं पहुंच रहे। शिकायतें यहां तक मिल रही हैं कि तमाम कर्मचारियों ने अपनी जगह काम कराने के लिए दूसरे लोग रख लिए हैं।

जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी राजकुमार सिंह ने हिन्दुस्तान को बताया कि जिले में निरीक्षण के दौरान 41 गांव के सफाईकर्मचारी ऐसे मिले हैं, जो सफाई करना तो दूर गांव में झांकने तक नहीं आ रहे। प्रशासन ने ऐसे सभी 41 कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है। सभी की बर्खास्तगी भी तय है। पंचायत राज विभाग ने भी इस सम्बंध में कार्रवाई शुरू कर दी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डयूटी से गायब चल रहे 41 सफाईकर्मी सस्पेंड