DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फीस बढ़ोत्तरी को लेकर कई स्कूल सवालों के घेरे में

 नर्सरी दाखिला प्रक्रिया शुरू होते ही फीस बढ़ोतरी को लेकर शहर के कई प्राइवेट स्कूल सवालों के घेरे में आ गए हैं। अभिभावक अभी से स्कूलों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी जुटाने में लगे हैं। ताकि आगामी शिक्षा सत्र में स्कूल प्रबंधकों द्वारा फीस बढ़ाने पर लगाम कसी जा सके। इसे लेकर कई अभिभावकों ने शिक्षा विभाग से आरटीआई के तहत स्कूलों की जानकारी मांगी है। वहीं स्कूल प्रबंधक इस बारे में कुछ भी बोलने को तैयार नहीं।

स्कूलों में नर्सरी दाखिले का दौर शुरू हो गया है। आरोप है कि स्कूल प्रबंधक नर्सरी की फीस को लेकर पारदर्शिता नहीं बरत रहे। अभिभावकों को संदेह है कि आगामी शिक्षा सत्र में स्कूल अन्य कक्षाओं की फीस में बढ़ोतरी न कर दें। ऐसे में अभिभावकों ने अभी से स्कूलों के खिलाफ कमर कस ली है। अभिभावक सूचना अधिकार के तहत स्कूलों की जानकारी जुटा रहे हैं। इसके तहत स्कूलों से इस शिक्षा सत्र में फीस बढ़ाने का कारण पूछा गया है।

आरटीआई के तहत स्कूल से मांगी गई सूचना में स्कूलों से पिछले पांच साल तक का टीचर्स और छात्रों का ब्योरा मांगा गया है। छठे वेतन आयोग के तहत टीचर्स को दी गई बढ़ी सैलरी, छात्रों की बढ़ाई गई फीस और पिछले पांच साल में छात्रों की संख्या के बारे में स्कूलों से जानकारी मांगी गई है।

शिक्षा विभाग आरटीआई के तहत इन स्कूलों से कई बार जानकारी मांग चुका है। लेकिन उसे अब तक मायूसी ही हाथ लगी है। स्कूलों की बेरुखी को देखते हुए विभाग ने सेक्टर-15 के एक प्राइवेट स्कूल के खिलाफ एनओसी रद्द करने का प्रस्ताव निदेशालय को भेज दिया है। जबकि अन्य स्कूलों को जानकारी उपलब्ध कराने के लिए एक सप्ताह का समय दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फीस बढ़ोत्तरी को लेकर कई स्कूल सवालों के घेरे में