DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिरौती के लिए किशोर को गंगा में बहाया

प्रापर्टी के लालच में एक बार फिर एनसीआर क्षेत्र में खून के रिश्ते कलंकित हो गए है। मुरादनगर क्षेत्र में एक मौसा ने अपने साथियों ने साथ मिलकर किशोर को जिंदा ही बेहोशी की हालत में गंगा में बहा दिया और परिजनों से तीस लाख रुपए फिरौती की मांग करता रहा। मुरादनगर पुलिस ने इस संबंध तीन आरोपियों को गिरफतार करते हुए मामले का खुलासा किया है। वहीं किशोर को मृत मानकर पुलिस शव की तलाश में जुट गई है। अब तक किशोर का अथवा उसके शव की कोई जानकारी नहीं मिली है।

मुरादनगर थाना क्षेत्र के गांव मोरटा से 28 अक्टूबर को कांग्रेसी नेता उमेश त्यागी का 14 वर्षीय पुत्र हर्ष त्यागी रहस्यमय परिस्थितियों में लापता हो गया था। जिसकी गुमशुगदगी दर्ज कराते हुए उमेश त्यागी ने अपने कुछ रिश्तेदारों पर शंका व्यक्त की थी।

थाना प्रभारी राशिद अली ने बताया कि पुलिस को तीस अक्टूबर को ही सर्विसलांस के जरिए पता चला गया था कि हर्ष का अपहरण किया गया है और अपहरण कर्ता परिजनों से तीस लाख की फिरौती की मांग कर रहे है। जिसके चलते पुलिस कार्रवाई में जुटी थी। अपहरणकर्ताओं ने बुधवार रात को फिरौती की रकम लेकर परिजनों को मेरठ पल्लमपुरम में बुलाया जिसके तहत पुलिस ने पूरे क्षेत्र की घेराबंदी पहले से ही कर ली थी और अपहरणकर्ताओं के वहां पहुंचते ही पुलिस ने उन्हें दबोच लिया।

थानाध्यक्ष ने बताया कि अपहरण की साजिश उमेश त्यागी की रिश्तेदारी में साढू लगने वाले देवक त्यागी पुत्र सुन्दर निवासी गांव तलहेटा थाना भोजपुर ने रची थी। 28 अक्टूबर को हर्ष का अपहरण करने के बाद वह उसे हापुड ले गए और वहां उसे नशीला पदार्थ देकर बेहोश कर दिया तथा बेहोशी की हालत में गंगा में फेंक दिया। इसके बाद भी वह परिजनों से तीस लाख रुपए की फिरौती की मांग करते रहे। बताया जाता है कि उमेश त्यागी की पत्नी के नाम कुछ समय पूर्व मायके वालों ने 15बीघा भूमि की थी जिसको देवक त्यागी लेना चाहता था और इसीलिए उसने तीस लाख की मांग की थी। वह इस जमीन को खरीदने की योजना बना रहा था। पुलिस ने इस मामले में शामिल देवक त्यागी के साथ ही संजीव पुत्र सुखबीर सिंह व ज्ञानी पुत्र धर्मपाल निवासीगण गांव रोरी मोदीनगर को गिरफतार किया हैं। पुलिस आरोपियों की निशानदेही पर हर्ष को मृत मानकर शव की तलाश में जुट गई हैं।

--- कई बार पहले भी हो चुके है रिश्ते कलंकित
एनसीआर क्षेत्र में प्रतिदिन बढ़ रहे प्रापर्टी के दामों के चलते बार-बार रिश्ते तार-तार होते जा रहे है। भाई-भाई की जान का दुश्मन बनता जा रहा है। मुरादनगर की यह कोई पहली घटना नहीं है इससे पहले भी कई बार प्रापर्टी के लालच में अपने ही अपनों का खून बहा चुके हैं।

- 9 जून2009 को भोजपुर के गांव अमीपुर में संपति के लालच में ससुर ने ही अपनी पुत्रवधू की गोली मारकर हत्या कर दी।

-12 जून2007 को मोदीनगर कोतवाली क्षेत्र के बैक कालोनी में खामोश ने बदमाश उधम सिंह से संपति के लालच में अपने पति मुकेश पालीवाल की हत्या कराई।

-14 अगस्त2007 को गांव रोरी में संपत्ति के लिए सगे भाई ने अपने भाई रणवीर सिंह की बलकटी से हत्या कर दी।

-16जून 2007 को बेगमाबाद में पत्नी ने संपत्ति के लालच में पति की हत्या कर दी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिरौती के लिए किशोर को गंगा में बहाया