DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाजीपुर की अफीम फैक्ट्री के तीन कर्मचारी लापता

स्थानीय अफीम फैक्ट्री से मारफीन की तस्करी का भंडाफोड़ होने के बाद से ही फैक्ट्री के तीन  कर्मचारी लापता हैं। इन तीनों का नाम जांच-पड़ताल के बाद प्रकाश में आया है। इनके अलावा एक कर्मचारी मारफीन की बरामदगी के अगले दिन फैक्ट्री आया था और लम्बी मेडिकल छुट्टी पर चल गया। गायब कर्मचारियों पर मारफीन की तस्करी में लिप्त होने का संदेह पक्का होता जा रहा है।

अफीम फैक्ट्री के महाप्रबंधक राजेन्द्र सिंह ने गुरुवार को बताया कि जिन कर्मचारियों के नाम पुलिस की जांच में प्रकाश में आये हैं उनमें अनिल उर्फ विधायक, शिवबचन, पहलवान और शेरू शामिल हैं। इनमें से शिवबचन एटीएस की कार्रवाई के दूसरे दिन फैक्ट्री आया था और बीमारी का प्रार्थनापत्र देकर लम्बी छुट्टी पर चला गया, लेकिन अन्य तीन कर्मचारी उसी दिन से गायब हैं।

उन्होंने स्वीकार किया कि बिना सूचना फैक्ट्री से गायब ये कर्मचारी भी मारफीन की तस्करी में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले की विभागीय जांच शुरू हो गयी है, लेकिन जांच अधिकारियों का नाम नहीं बताता। उन्होंने कहा कि जांच कुछ सप्ताह में पूरी हो जायेगी।

उन्होंने कहा कि सिविल पुलिस ने उन्हें अब तक इस बात की रिपोर्ट नहीं दी है कि इस मामले में फैक्ट्री के कितने कर्मचारी शामिल हैं। ऐसी रिपोर्ट मिलते ही सम्बन्धित कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार कर जेल भेजे गये एकमात्र कर्मचारी उमाशंकर यादव को निलम्बित किया जा चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गाजीपुर की अफीम फैक्ट्री के तीन कर्मचारी लापता