DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मांगी हुई किट व टिफिन में चाऊमीन से की शुरुआत

मांगी हुई किट व टिफिन में चाऊमीन से की शुरुआत

टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के पास आज भले ही शोहरत, करोड़ों की संपत्ति, दजर्नों बल्ले और शानदार किट हो लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब वह बड़ी बहन जयंती द्वारा बनाई गई चाउमीन को टिफिन में भरकर उधार की किट के साथ अभ्यास करने के लिए जाते थे।

खेल पत्रकार सी राजशेखर राव द्वारा लिखित और ‘ओशन पेपरबैक्स’ द्वारा प्रकाशित 134 पृष्ठ की पुस्तक ‘धोनी’ ने भारतीय कप्तान के इस रोचक सफरनामे का खुलासा किया है। इस पुस्तक के माध्यम से राव ने खिलाड़ी, कप्तान और एक व्यक्ति के रूप में धोनी के जमीन से आसमान तक के सफर पर प्रकाश डाला है।

राव लिखते हैं कि धोनी के पिता पान सिंह मेकॉन कंपनी में दैनिक भत्ते पर काम किया करते थे। बाद में उन्हें पंप ऑपरेटर के तौर पर स्थाई नौकरी मिल गई, लेकिन उस नौकरी के बदले मिलने वाले वेतन से धोनी के लिए महंगी क्रिकेट किट नहीं खरीदी जा सकती थी। यही कारण है कि धोनी अपने दोस्तों से किट उधार लेकर अभ्यास के लिए जाते थे।

गरीबी धोनी की राह में कभी भी रोड़ा नहीं बनी। यह कारण था कि उन्होंने पहले ही ठान लिया था कि उन्हें क्रिकेट में ही करियर बनाना है और इसे लेकर वह हमेशा सकारात्मक सोचा करते थे। शुरुआती दिनों में उनकी जिंदगी में कई मुश्किलें आईं लेकिन उन्होंने इसे हंसते-हंसते पार कर लिया।

धोनी की सबसे बड़ी खासियत थी कि वह अपनी राह में आने वाले हर एक मौके को भुनाना जानते थे। इसी विलक्षण गुण ने उन्हें आज इतना ऊपर पहुंचा दिया है। हमें देखने में भले ही लगता है, लेकिन भारतीय टीम का कप्तान बनने तक का उनका सफर कतई आसान नहीं रहा है।

धोनी को फुटबाल के गोलकीपर से क्रिकेट का विकेटकीपर बनाने वाले प्रशिक्षक केशब रंजन बनर्जी कहते हैं कि 1995 में धोनी आठवीं कक्षा में पढ़ते थे। वैसे तो वह एक विकेटकीपर थे लेकिन एक मैच के दौरान उन्हें बल्लेबाजी का मौका मिल गया। उन्हें 5-10 गेंदों का सामना करना था। उनसे अपेक्षा की जा रही थी कि वह इतनी गेंदों पर 15-20 रन जुटा लेंगे लेकिन धोनी ने 23 रन जुटाकर अपने साथियों को खुश कर दिया।

बल्लेबाजी से धोनी का यह पहला परिचय था। बतौर बल्लेबाज अब उनके अंदर का आत्मविश्वास जाग रहा था। 10वीं में उन्हें एक स्कूली मैच में पारी शुरू करने के लिए भेजा गया। उन्होंने 150 गेंदों पर 23 चौकों और छह छक्कों की मदद से 213 रनों की बेहतरीन पारी खेलकर सबका दिल जीत लिया। इस दौरान उन्होंने अपने साथी बल्लेबाज शब्बीर हुसैन के साथ 40 ओवरों के मैच में 378 रनों की साझेदारी निभाई। शब्बीर ने 116 गेंदों पर 117 रन बनाए।

उस पल को याद करते हुए बनर्जी कहते हैं, ‘‘हम 1996 से 2000 तक लगातार चैंपियन रहे लेकिन 1999 का फाइनल हम कभी नहीं भूल सकते। धोनी और शब्बीर ने क्या गजब की पारी खेली थी। आप सहज ही इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि उस समय मैदान में क्या हो रहा होगा, जब दोनों बल्लेबाजों ने 40 ओवर के मैच में पहले विकेट के लिए 378 रन जोड़ दिए थे।’’

धोनी मेकॉन कॉलोनी में पले-बढ़े। एक क्रिकेट खिलाड़ी के तौर पर उनकी पहचान बनने लगी थी लेकिन दुख की बात यह थी कि उन्हें मेकॉन की टीम में जगह नहीं मिली। चयनकर्ता अमित मिश्र ने कहा था कि धोनी की उम्र काफी कम है और टीम में जगह पाने के लिए उन्हें इंतजार करना होगा।

धोनी इससे निराश नहीं हुए और स्कूल में रहते हुए ही उन्होंने 1998 में सेंट्रल कोलफील्ड लिमिटेड (सीसीएल) टीम में जगह बना ली। इसके बदले उन्हें 2000 रुपए प्रतिमाह का स्टाइपेंड मिला करता था। धोनी सीसीएल के मैच खेला करते थे। जल्द ही धोनी की बोर्ड की परीक्षाएं आ गई और यही वक्त फैसला करने का था। धोनी ने अपने मन की सुनते हुए क्रिकेट को वरीयता देने का फैसला किया।

बतौर खिलाड़ी धोनी के संघर्ष के गवाह रहे उनके प्रशिक्षक, दोस्त और मेकॉन के खिलाड़ी जितेंद्र कुमार सिंह का मानना है कि आत्मविश्वास धोनी की सबसे बड़ी पूंजी थी। धोनी के नाम पर मंदिर बनवाने को लेकर खबरों में आए जितेंद्र कहते हैं, ‘‘उनके अंदर आत्मविश्वास कूट-कूट कर भरा था। साथ ही उनकी बल्लेबाजी तकनीक दूसरों से भिन्न और ठोस थी। यह जानते हुए भी धोनी खूब मेहनत किया करते थे। मुझे याद है कि वह मुझे सुबह चार बजे उठाकर कहा करते थे ‘जीतू भैया..खेलने चलिए।’ मेकॉन के लिए खेलने के दौरान जब मैं अभ्यास सत्र के दौरान दिन में चार मैच आयोजित कराता था, तब वह चारों मैचों में खेला करते थे। वह 200 लड़कों में सबसे अलग दिखा करते थे।’’

जितेंद्र कहते हैं कि उन्हें यह देखकर बहुत दुख होता था कि प्रतिभा का धनी होने के बावजूद धोनी बिना किट और अच्छे जूतों के लिए अभ्यास के लिए आते थे। जितेंद्र कहते हैं, ‘‘मैं वह दिन नहीं भूल सकता। आज धोनी के पास सब कुछ है। निश्चित तौर पर वह भी उन दिनों को नहीं भूले होंगे। मैं उनसे बेहद प्रभावित था। अगर मैं उनसे छोटा होता तो निश्चित तौर पर वह मेरे प्रेरणास्रोत होते। मेरी नजर में धोनी उस क्रिकेटर का नाम है, जो दिल से ईमानदार और सीधा-साधा है और जिसने कभी भी खुद को किसी अन्य से दोयम नहीं समझा। इसी गुण ने धोनी को जमीन से आसमान तक पहुंचा दिया है।’’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मांगी हुई किट व टिफिन में चाऊमीन से की शुरुआत